IND vs WI: Rishabh Pant says he was getting frustrated after not scoring runs
Rishabh Pant (File Photo) @ AFP

रिषभ पंत कभी कभी रन नहीं बना पाने के कारण ‘निराश’ हो जाते हैं लेकिन भारतीय टीम के सीनियर खिलाड़ियों के समर्थन से उनका आत्मविश्वास बढ़ जाता है।

विंडीज के खिलाफ पहले दो टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में नाकाम रहे पंत ने मंगलवार को तीसरे मैच में कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर टीम की सात विकेट की जीत में अहम भूमिका निभाई जिससे भारत ने वेस्टइंडीज का 3-0 से सूपड़ा साफ किया।

पढ़ें:- जिम्‍बाब्‍वे पर प्रतिबंध के बाद टी20 वर्ल्‍ड कप क्‍वालीफायर 2019 में इस टीम को मिली जगह

पंत ने ‘बीसीसीआई.टीवी’ के लिए उप कप्तान रोहित शर्मा से कहा, ‘‘मैंने अपनी पारी के बारे में अच्छी चीजें सुनी। मैं रन नहीं बना पा रहा था और हताश हो रहा था। लेकिन मैं अपनी प्रक्रिया पर कायम रहा और इससे आज वांछित नतीजे मिले।’’

धीमी पिच पर 147 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ने कप्तान कोहली की 45 गेंद में 59 और पंत की 42 गेंद में नाबाद 65 रन की पारी की बदौलत आसान जीत दर्ज की।

पंत ने कहा, ‘‘कई बार ऐसा समय आया जब रन नहीं बना पाने के कारण मैं हताश हो गया। इसके बाद मैंने सोचा कि प्रदर्शन करने के लिए मैं क्या अलग कर सकता हूं। ऐसा समय भी आया जब मैंने सही फैसले किए और तब भी प्रदर्शन नहीं कर पाया। क्रिकेट में ऐसा होता है और यह खेल का हिस्सा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन मैं हमेशा अपने बेसिक्स पर ध्यान लगाने की कोशिश करता हूं, अपने अंदर की आवाज सुनता हूं और प्रक्रिया का पालन करता हूं।’’

पढ़ें:- PCB ने हेड कोच मिकी आर्थर सहित कोचिंग स्टाफ को बर्खास्त किया

कोहली के साथ 106 रन की साझेदारी के बारे में पूछने पर पंत ने कहा, ‘‘जब मैं और विराट खेल रहे थे तो हम बड़ी साझेदारी के बारे में सोच रहे थे और फिर अंतिम सात-आठ ओवर में तेजी से रन बनाते।’’

बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा कि वह अपेक्षाओं के दबाव में नहीं आते। उन्होंने कहा, ‘‘मैं कभी कभी दबाव महसूस करता हूं, कभी कभी इसका लुत्फ उठाता हूं। लेकिन पूरी टीम, विशेषकर सीनियर खिलाड़ियों को मुझ पर भरोसा है और इससे काफी मनोबल बढ़ता है। आपको पता है कि एक या दो पारियों में विफल होने के बावजूद टीम आपका साथ देगी। इससे मदद मिलती है।’’