India beat Zimbabwe by 13 runs in the 3rd ODI played at Harare win the 3-match series 3-0
BCCI

शुभमन गिल (130) की शतकीय पारी के दम पर भारत ने तीसरे वनडे में 13 रनों से जीत दर्ज करते हुए मेजबान जिम्बाब्वे का 3-0 से सूपड़ा साफ कर दिया। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में 8 विकेट पर 289 रन बनाए। इसके जवाब में जिम्बाब्वे सिकंदर रजा की शतकीय पारी के बावजूद 276 रनों पर सिमट गया। इससे पहले भारत ने पहला वनडे मैच 10 विकेट से और दूसरा वनडे मैच 5 विकेट से अपने नाम किया था।

भारत के 290 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए जिंबाब्वे की टीम आवेश खान (66 रन पर तीन विकेट), अक्षर पटेल (30 रन पर दो विकेट), कुलदीप यादव (38 रन पर दो विकेट) और दीपक चाहर (75 रन पर दो विकेट) की धारदार गेंदबाजी के सामने 49.3 ओवर में 276 रन पर सिमट गई।

सिकंदर रजा (95 गेंद में 115 रन, नौ चौके, तीन छक्के) और ब्रेड इवान्स (28) ने आठवें विकेट के लिए 104 रन जोड़कर उलटफेर की उम्मीद जगाई लेकिन टीम ने अंतिम तीन विकेट सिर्फ तीन रन पर गंवा दिए। सीन विलियम्स (46 गेंद में 45 रन) ने भी उपयोगी पारी खेली। जिंबाब्वे के खिलाफ वनडे क्रिकेट में यह भारत की लगातार 15वीं जीत है। भारत ने यहीं तीन जून 2010 को सात विकेट की हार के बाद से जिंबाब्वे के खिलाफ कोई वनडे मैच नहीं गंवाया है।

गिल ने 97 गेंद में 15 चौकों और एक छक्के की मदद से 130 रन की पारी खेलने के अलावा इशान किशन (61 गेंद में 50 रन, छह चौके) के साथ तीसरे विकेट के लिए 140 रन की साझेदारी की जिससे भारत ने आठ विकेट पर 289 रन का स्कोर खड़ा किया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे जिंबाब्वे ने तीसरे ओवर में ही इनोसेंट काइया (06) का विकेट गंवा दिया जिन्हें चाहर ने पगबाधा किया। डीआरएस लेने पर फैसले भारत के पक्ष में गया। विलियम्स ने आते ही तेवर दिखाए। उन्होंने आवेश पर चौका जड़ने के बाद चाहर पर भी दो चौके मारे। सलामी बल्लेबाज ताकुदवनाशे काइतानो ने आवेश पर पुल से छक्का जड़ा लेकिन यह शॉट खेलने के दौरान चोटिल हो गए और उन्हें रिटायर्ड हर्ट होकर वापस लौटना पड़ा।

विलियम्स और टोनी मुनयोगा (15) ने टीम का स्कोर 82 रन तक पहुंचाया। अक्षर ने अपने पहले ही ओवर में विलियम्स को पगबाधा करके इस साझेदारी को तोड़ा। उन्होंने अपनी पारी में सात चौके मारे।

आवेश ने अगले ओवर में मुनयोगा को भी कप्तान राहुल के हाथों कैच कराया। रजा अच्छी लय में नजर आए और उन्होंने अक्षर पर दो चौके मारे। अक्षर ने जिंबाब्वे के कप्तान रेगिस चकाबवा (16) का कैच अपनी ही गेंद पर लपका। काइतानो इसके बाद दोबारा बल्लेबाजी के लिए उतरे लेकिन अगले ओवर में कुलदीप की गेंद पर स्टंप हो गए जिससे टीम का स्कोर पांच विकेट पर 122 रन हो गया। रजा ने चाहर पर चौका और छक्का मारा लेकिन इस तेज गेंदबाज ने रेयान बर्ल (08) को धवन के हाथों कैच करा दिया।

ल्यूक जोंगवे (14) ने भी चाहर की लगातार गेंदों पर चौका और छक्का मारा लेकिन अगले ओवर में कुलदीप की गेंद पर गिल को कैच दे बैठे। रजा ने शारदुल की गेंद पर एक रन के साथ 61 गेंद में अर्धशतक पूरा किया और फिर इसी ओवर में लगातार तीन चौके मारे। जिंबाब्वे को अंतिम 10 ओवर में 95 रन की दरकार थी। रजा ने इवान्स के साथ मिलकर टीम को लक्ष्य के करीब पहुंचाया। उन्होंने चाहर पर छक्का और फिर ठाकुर की गेंद पर एक रन के साथ सिर्फ 88 गेंद में शतक पूरा किया।

जिंबाब्वे को अंतिम तीन ओवर में 33 रन की जरूरत थी। रजा ने आवेश के 48वें ओवर में दो चौके और एक छक्का जड़ा लेकिन इवान्स पगबाधा हो गए। अगले ओवर में गिल ने शारदुल की गेंद पर लांग आन पर रजा का शानदार कैच पकड़कर मैच फिर भारत के पक्ष में मोड़ दिया। जिंबाब्वे को इस समय आठ गेंद में 15 रन की जरूरत थी जबकि सिर्फ एक विकेट बचा था। आवेश ने विक्टर नायउची (0) को बोल्ड करके भारत को जीत दिलाई।