India can go with three fast bowlers in test series vs Sri Lanka
भारतीय टेस्ट टीम © AFP

भारतीय टीम अगामी दक्षिण अफ्रीका दौरे को ध्यान में रखते हुए श्रीलंका के खिलाफ 16 नवंबर से शुरू हो रही सीरीज के पहले टेस्ट मैच में तीन तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकती है। पीटीआई में छपी एक खबर के मुताबिक टीम मैनेजमेंट सीरीज के तीनों टेस्ट मैचों के लिये ठोस और उछाल वाली विकेट चाहता है जिस पर ज्यादा घास न हो। जैसी पिच आमतौर पर दक्षिण अफ्रीका में होती है। मैनेजमेंट की बातों का ध्यान रखते हुये ईडन गार्डन्स के ग्राउंड्समैन ने आज पिच से घास की परत को हटा दिया है।

दक्षिण अफ्रीका में अहम होंगे तेज गेंदबाज

दक्षिण अफ्रीका में भारतीय टीम तीन तेज गेंदबाजों के साथ उतरेगी जिसमें मोहम्मद शमी और उमेश यादव मुख्य गेंदबाज हो सकते हैं। इनका साथ ईशांत शर्मा और भुवनेश्वर कुमार में कोई एक देगा। ईशांत ने इस रणजी ट्रॉफी सीजन के तीन मैचों प्रभावशाली गेंदबाजी की है। ठोस विकेट पर उनकी गेंदबाजी अहम साबित हो सकती है। इसी तरह भुवनेश्वर ईडन गार्डन्स में सफल हो सकते है क्योंकि उन्हें सुबह और शाम के सेशन में स्विंग मिल सकती है। टेस्ट मैच में रविचंद्रन अश्विन और कुलदीप यादव भारत के दो प्रमुख स्पिनर हो सकते है। अश्विन को आज गेंदबाजी के दौरान रॉन्ग वन (गुगली) का अभ्यास करता देखा गया। जिसमें वह लेग-स्पिनर की तरह गेंद पकड़कर अभ्यास कर रहे थे।

विराट कोहली ने की रिवर्स स्विंग से निपटने की तैयारी

वहीं दूसरी तरफ कप्तान विराट कोहली रिवर्स स्विंग गेंदबाजी के खिलाफ बल्लेबाली अभ्यास कर रहे थे। वह रिवर्स स्विंग से निपटने के लिए खास तरह की लाल-पीली गेंद से अभ्यास कर रहे थे। इन गेंदों को विशेष रूप से इसी के लिये तैयार किया जाता है। सचिन तेंदुलकर भी अपने करियर के आखिरी दिनों में ऐसी गेंद से अभ्यास करते थे। रणजी टीमों का भी इस गेंद से अभ्यास करना आम है।