पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन (Michael Vaughan) का मानना है कि इंग्लैंड और भारत के बीच रद्द किया हुआ टेस्ट जब अगले साल खेला जाएगा तो ये एक मजाक की तरह होगा जिसमें कोई दिलचस्पी नहीं रहेगी।

वॉन ने द टेलीग्राफ के लिए अपने कॉलम में लिखा, “खिलाड़ी चिंतित होंगे कि वो इस मैच में कैसे रन बनाएंगे या फिर कैसे विकेट लेंगें। अब उन्हें ऐसा करने के लिए एक साल का इंतजार करना होगा। ये सिर्फ एक टेस्ट होगा जो एक टेलीविजन कॉन्ट्रेक्ट को पूरा करने के लिए खेला जाएगा, ये व्यर्थ होगा। ये सीरीज खत्म हो चुकी है।”

46 साल के कमेंटेटर ने महसूस किया कि पिछले कुछ हफ्तों में प्रोटोकॉल को उतना गंभीरता से नहीं लिया गया। उन्होंने कहा, मैं समझता हूं कि खिलाड़ी बबल में कठिन समय से गुजरे हैं, लेकिन वास्तव में पिछले कुछ हफ्तों में प्रोटोकॉल को गंभीरता से नहीं लिया गया है।”

पूर्व क्रिकेट ने कहा, “इंग्लैंड में पिछले कुछ हफ्तों से भारतीय टीम वही कर रही है जो उन्हें पसंद है, बाहर जाना और अच्छा समय बिताना। लेकिन अचानक, आईपीएल से एक हफ्ते पहले, उन्होंने टेस्ट मैच नहीं खेलने का फैसला किया। ये लोग सिर्फ अपनी शक्ति का उपयोग कर रहे हैं जिसके चलते क्रिकेट के समर्थकों को परेशानी हो रही है।”

वॉन ने कहा कि टेस्ट मैच रद्द करना बोर्ड या प्रशासकों के बारे में नहीं था, ये फैसला लेने वाले खिलाड़ियों के बारे में था। उन्होंने कहा, “ये बोर्ड या प्रशासकों के बारे में नहीं है। यह कॉल करने वाले खिलाड़ी हैं। प्रशासक हमेशा खेल चाहते हैं। उन्होंने प्रसारण और प्रचार सौदों के साथ-साथ हजारों टिकट बेचे हैं।”