दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लगातार दो मैचों में हारकर वनडे सीरीज में 0-2 से पिछड़ चुकी भारतीय टीम को लगातार आलोचना झेलनी पड़ रही है। दोनों ही वनडे मैचों में टीम इंडिया की हार का बड़ा कारण मध्यक्रम की खराब बल्लेबाजी रही। खासकर कि दूसरे वनडे मैच में जहां केएल राहुल (KL Rahul) और रिषभ पंत (Rishabh Pant) के अलावा किसी शीर्ष और मध्य क्रम के किसी भी बल्लेबाज ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया।

दूसरे मैच में टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 287 रन का स्कोर खड़ा किया था। इस दौरान डेब्यूटांट वेंकटेश अय्यर (Venkatesh Iyer) को सबसे ज्यादा आलोचना का सामना करना पड़ा। लेकिन मैच के बाद पूर्व भारतीय स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने इस युवा खिलाड़ी का बचाव करते हुए कहा कि ये ऑलराउंडर अय्यर शीर्ष क्रम बल्लेबाज हैं और उनके लिए छह नंबर पर बल्लेबाजी करना आसान नहीं है।

अय्यर आईपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के लिए शीर्ष क्रम में ही खेलते हैं। उन्होंने दोनों वनडे मैचों में क्रमश: 2 और 22 बनाकर छठे नंबर पर बल्लेबाजी की है।

हरभजन ने कहा, “वेंकटेश अय्यर को खेलना चाहिए या नहीं, इस बारे में बहुत सारी बातें हुई हैं। मुझे लगता है कि अगर आप उसे मैच में खेलते हुए देखना चाहते हैं तो उसे सलामी बल्लेबाज के रूप में टीम की तरफ से उतारें, क्योंकि वह एक सलामी बल्लेबाज है।”

41 साल के खिलाड़ी ने कहा कि पांच और छह पर बल्लेबाजी करना एक अलग भूमिका है, जिसके कारण भारत को एमएस धोनी और युवराज सिंह जैसा विकल्प आज तक नहीं मिला है।

हरभजन ने कहा, “पांचवें और छठे नंबर पर एक दबाव रहता है, इसलिए एमएस धोनी और युवराज सिंह इतने बड़े खिलाड़ी हैं क्योंकि उन्होंने उन पदों से बहुत सारे मैच जीते हैं और शायद भारत को अभी भी उनकी जगह नहीं मिली है।”