India look to lock middle-order, sixth bowler ahead of T20 World Cup

मोहाली : भारतीय क्रिकेट टीम टी20 विश्व कप से पहले एक बेहतर प्लेइंग इलेवन के लिए बेहतर से बेहतर फैसला लेगा। टीम इंडिया मंगलवार को तीन मैचों की टी20 सीरीज के लिए एक मजबूत ऑस्ट्रेलियाई टीम से भिड़ेगा।

हाल ही में संपन्न हुए एशिया कप 2022 में भारत के खराब अभियान ने कुछ गंभीर सवाल खड़े किए थे, लेकिन चयनकर्ताओं ने ऑस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप के लिए लगभग एक ही टीम चुनी है।

इसी तरह के नए खिलाड़ियों की निरंतरता से पता चलता है कि कप्तान रोहित शर्मा, मुख्य कोच राहुल द्रविड़ और चयनकर्ताओं ने अभी तक पैनिक बटन नहीं दबाया है और आगामी मैचों में खिलाड़ियों के बेहतर चयन पर विचार कर रहे है।

हालांकि, टीम प्रबंधन अभी भी कुछ मुद्दों को ठीक करने और अपने सर्वश्रेष्ठ संभावित प्लेइंग इलेवन को अंतिम रूप देने के लिए कुछ और चीजों को आजमाने की कोशिश करेगा।

जहां तक बल्लेबाजी का सवाल है, तो टीम के टॉप आर्डर में चार बल्लेबाज रोहित शर्मा, केएल राहुल, विराट कोहली और सूर्यकुमार यादव शामिल हैं।

इस बीच सबसे बड़ा सवाल यह है कि विकेटकीपर के रूप में कौन खेलेगा- ऋषभ पंत या दिनेश कार्तिक?

एशिया कप के दौरान, कार्तिक विकेटकीपर के रूप में भारत की पहली पसंद रहे। लेकिन ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा की चोटिल होने की वजह से टीम प्रबंधन को बाएं हाथ के पंत को लाने के लिए मजबूर कर दिया, जो पूरी तरह खेल में आश्वस्त नहीं दिख रहे थे।

मिडिल ओवरों में बाएं हाथ के बल्लेबाज का उपयोग करने का विचार ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बाएं हाथ के स्पिनर का मुकाबला करना था, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के पास एश्टन एगर भी ऐसा ही गेंदबाज हैं। इसलिए, पंत को कार्तिक पर वरीयता मिल सकती है, जो अपने फिनिशिंग कौशल के लिए जाने जाते हैं।

जडेजा के चोटिल होने के बाद टीम में अक्षर पटेल को मौका मिला। दीपक हुड्डा, जो कुछ ओवर गेंदबाजी कर सकते हैं और कप्तान को एक अतिरिक्त विकल्प देते हैं, उन्हें एशिया कप में खेलने का मौका मिला, लेकिन उन्हें गेंदबाजी में बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं किया गया।

इसके अलावा, हुड्डा की सफलता ज्यादातर शीर्ष क्रम के बल्लेबाज के रूप में आई है लेकिन उन्हें दुबई में बड़े टूर्नामेंट में पारी खत्म करने का काम दिया गया था।

ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या द्रविड़ और रोहित अक्षर पटेल की हरफनमौला क्षमता पर भरोसा दिखाते हैं या फिर हुड्डा के साथ जाते हैं।

दूसरी ओर जसप्रीत बुमराह और हर्षल पटेल की वापसी से भारत के गेंदबाजी आक्रमण को मजबूती मिलेगी। बुमराह और हर्षल दोनों चोटों के कारण एशिया कप 2022 से चूक गए थेस, जिसके बाद अब वह तीन मैचों की टी20 श्रृंखला के दौरान अपनी शानदार छाप छोड़ने के लिए पूरी तरह कोशिश करेंगे।

पाकिस्तान और श्रीलंका के खिलाफ बैक-टू-बैक मैचों में महंगे होने साबित के बाद, भुवनेश्वर कुमार ने अफगानिस्तान के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करके अच्छी समाप्त की, और वह इसे आगामी मुकाबलों में भी जारी रखने की उम्मीद करेंगे।

इस बीच टीम इंडिया उमेश यादव को भी मौका दे सकती है, जिन्होंने टीम में मोहम्मद शमी की जगह ली है। अक्षर के अलावा युजवेंद्र चहल और रविचंद्रन अश्विन जैसे स्पिन विकल्प हैं।

कुल मिलाकर, पहले मैच में भारत की प्लेइंग इलेवन विश्व कप के लिए उनकी सोच और दृष्टिकोण पर थोड़ी स्पष्टता देगी।

इस बीच, आरोन फिंच की अगुवाई वाली ऑस्ट्रेलिया भारत में पूरी तीन मैचों की टी20 सीरीज के लिए चोटों के कारण मिशेल स्टार्क, मार्कस स्टोइनिस और मिशेल मार्श जैसे खिलाड़यों के बगैर खेलेगा।

अपने प्रमुख खिलाड़ियों को याद करने के बावजूद, टी20 विश्व कप के मौजूदा चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के पास एक बेहतर और संतुलित टीम है। पांच विशेषज्ञ बल्लेबाज, पांच ऑलराउंडर और पांच स्पेशलिस्ट गेंदबाज के दम पर ऑस्ट्रेलियाई टीम काफी मजबूत दिखाई पड़ती है।

हालांकि, ऑस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच का फॉर्म उनके लिए एक बड़ी चिंता का विषय है और भारत इसका फायदा उठाने की कोशिश करेगा।

वहीं सबकी निगाहें बेहद प्रतिभाशाली टिम डेविड पर भी होंगी। पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में पले-बढ़े डेविड ने सिंगापुर के लिए 14 20-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले है।

पूरी दुनिया में फ्रेंचाइजी लीग में अपना नाम बनाने के बाद, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने हार्ड-हिटर को नीलामी में 8.25 करोड़ में मुंबई इंडियंस ने पिछले साल खरीदा था।

कप्तान आरोन फिंच, स्टीव स्मिथ, ग्लेन मैक्सवेल, पैट कमिंस, जोश हेजलवुड और केन रिचर्डसन जैसे खिलाड़ियों ने भारत में यह जानने के लिए पर्याप्त समय बिताया है कि शीर्ष स्तर पर सफल होने के लिए क्या करना पड़ता है।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं-

भारत: रोहित शर्मा (कप्तान), केएल राहुल (उपकप्तान), विराट कोहली, सूर्यकुमार यादव, दीपक हुड्डा, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), दिनेश कार्तिक (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, आर अश्विन, युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल, भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव, हर्षल पटेल, दीपक चाहर और जसप्रीत बुमराह।

ऑस्ट्रेलिया: सीन एबॉट, एश्टन एगर, पैट कमिंस, टिम डेविड, नाथन एलिस, एरोन फिंच (कप्तान), कैमरन ग्रीन, जोश हेजलवुड, जोश इंगलिस, ग्लेन मैक्सवेल, केन रिचर्डसन, डेनियल सैम्स, स्टीव स्मिथ, मैथ्यू वेड और एडम जम्पा।

एजेंसी – आईएएनएस