India needed Ajinkya Rahane’s calmness after getting all out for 36 in Adelaide: Ramiz Raja
अजिंक्य रहाणे (Twitter)

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रमीज रजा ने विराट कोहली की गैरमौजूदगी में भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर 2-1 से बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी जिताने वाले अजिंक्य रहाणे की नेतृत्वक्षमता की जमकर तारीफ की है। रजा का कहना है कि एडिलेड में खेले गए सीरीज के पहले टेस्ट में मिली शर्मनाक हार के बाद भारत को किसी मजबूत कप्तान की जरूरत थी जो भूमिका रहाणे ने पूरी की।

अपने यू-ट्यूब चैनल पर पोस्ट किए एक वीडियो में उन्होंने कहा, “मैं विराट कोहली को बहुत पसंद करता हूं क्योंकि उसने सिस्टम में मौजूद सभी लोगों को ऊपर उठाया है और टीम में आक्रामकता लाया है। इस टीम में उसका योगदान बहुत अधिक है। उस समय (एडिलेड टेस्ट में हार के बाद) भारत को अजिंक्य रहाणे की जरूरत थी क्योंकि एडिलेड में 36 रन पर ऑलआउट होने के बाद टीम को ऐसे किसी की जरूरत थी जो टीम में शांति लेकर आए। उसने हालात को अच्छे से संभाला।”

एडिलेड में पहला मैच हारने के बाद भारतीय टीम ने मेलबर्न में खेला गया बॉक्सिंग डे टेस्ट जीतकर सीरीज में बराबरी की। सिडनी में हुआ तीसरा टेस्ट ड्रॉ होने के बाद टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के अजेय दुर्ग गाबा में ऐतिहासिक जीत हासिल कर सीरीज पर कब्जा किया।

पूर्व ऑस्‍ट्रेलियाई क्रिकेटर का दावा, Virat Kohli की कप्‍तानी में डरे-डरे से लगते हैं भारतीय खिलाड़ी

रजा ने कोच रवि शास्त्री की भी सराहना की। उन्होंने कहा, “मैं ज्यादा श्रेय कोच रवि शास्त्री को दूंगा क्योंकि 36 पर ऑलआउट होने के बाद दिमाग पर भरोसा दबाव में आ जाता है। ऐसे समय में टीम का मनोबल बढ़ाया, जबकि टीम के सुपरस्टार भी स्क्वाड में नहीं है, फिर भी ड्रेसिंग रूम में ऐसा माहौल तैयार करना जहां हम दूसरी टीम के कमतर ना लगें और खिलाड़ियों को हालात से अवगत कराना, ये सब आसान नहीं होता। टीम में जो नए खिलाड़ी आए, उन्होंने भी अच्छा प्रदर्शन किया।”

भारत और इंग्लैंड के खिलाफ 5 फरवरी से शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज के बारे में रजा ने कहा, “अच्छी बात ये है कि भारत के दूसरे और तीसरे लेवल के खिलाड़ी भी ऑस्ट्रेलिया में खड़े हुए और उन्होंने वहां लगातार दूसरी सीरीज जीती। इसलिए आप कल्पना कर सकते हैं कि अब विराट कोहली और बाकी प्रमुख खिलाड़ियों के लौटने के बाद उनका आत्मविश्वास किस स्तर पर होगा। ये बात कि उनके दूसरे और तीसरे लेवल के खिलाड़ियों ने भी ऑस्ट्रेलिया में भी प्रदर्शन किया, ये उनके लिए बहुत बड़ी बात है।”