भारतीय टीम © IANS (File Photo)
भारतीय टीम © IANS (File Photo)

दूसरे टेस्ट में श्रीलंका के खिलाफ भारतीय टीम ने अपना शिकंजा कस दिया है। श्रीलंका को पहली पारी में 183 रनों पर ऑल आउट कर भारतीय टीम ने 439 रनों की बढ़त हासिल कर ली और श्रीलंका को फॉलोऑन खेलने पर भी मजबूर कर दिया। श्रीलंका के खिलाफ 439 रनों की बढ़त टीम इंडिया की किसी भी टीम के खिलाफ तीसरी सबसे ज्यादा रनों की बढ़त है। भारत ने इससे पहले साल 2007 में ढाका में बांग्लादेश के खिलाफ 492 रनों की बढ़त बनाई थी, तो वहीं साल 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ कोलकाता टेस्ट में 478 रनों की बढ़त बनाई थी। श्रीलंका के खिलाफ अब भारत ने अपने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में तीसरी सबसे बड़ी बढ़त हासिल की है। ये भी पढ़ें: रवींद्र जडेजा ने पूरे किए 150 विकेट और इन 4 बड़े कारनामों को दिया अंजाम

इसके अलावा श्रीलंका के खिलाफ ये बढ़त किसी भी टीम की सबसे ज्यादा रनों की बढ़त है। श्रीलंका की टीम के खिलाफ आज तक किसी भी टीम ने इतने रनों की बढ़त हासिल नहीं की थी। भारत से पहले श्रीलंका के खिलाफ सबसे ज्यादा रनों की बढ़त लेने का रिकॉर्ड पाकिस्तान के नाम था। पाकिस्तान ने साल 2000 में गॉल टेस्ट में श्रीलंका के खिलाफ 419 रनों की बढ़त हासिल की थी लेकिन अब भारत ने पाकिस्तान को पछाड़कर इस रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया है। भारत ने श्रीलंका के खिलाफ 439 रनों की बढ़त हासिल कर ली है और सबसे ज्यादा रनों की बढ़त हासिल करने वाली टीम बन गई है।

इससे पहले भारत ने श्रीलंका की पहली पारी 183 रनों पर समेट कर 439 रनों की बढ़त हासिल कर ली और श्रीलंका को फॉलोऑन खिलाने का फैसला किया। भारत ने अपनी पहली पारी में 9 विकेट के नुकसान पर 622 रन बनाए थे। जवाब में श्रीलंका की पूरी टीम मात्र 183 रनों पर सिमट गई। श्रीलंका की तरफ से निरोशन डिकवेला ही कुछ संघर्ष कर सके और उन्होंने अर्धशतक जड़ा लेकिन डिकवेला के अलावा कोई भी बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजों का सामना नहीं कर सका और पूरी टीम 183 रनों पर सिमट गई। भारत की तरफ से आर अश्विन ने सबसे ज्यादा (5) विकेट लिए।