India tour of West Indies: Indian team selection to take place on 19th july
Team India (File Photo) @ AFP

वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम की घोषणा 19 जुलाई को होगी लेकिन तीन अगस्त से शुरू होने वाली सीमित ओवरों की सीरीज के लिए महेन्द्र सिंह धोनी के भविष्य को लेकर कुछ भी स्पष्ट नहीं है।

विश्व कप के सेमीफाइनल में नौ जुलाई को न्यूजीलैंड से हार के बाद से ही धोनी के भविष्य पर चर्चा की जाने लगी। उम्मीद है कि 38 साल का यह विकेटकीपर बल्लेबाज अगले कुछ दिनों में संन्यास लेने की घोषणा कर देगा।

पढ़ें:- ICC की विश्‍व कप टीम में विराट-मोर्गन को नहीं मिली जगह, भारत के केवल दो खिलाड़ी

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने प्रशासकों की समिति (सीओए) से मुलाकात के बाद पीटीआई से कहा, ‘‘ चयनकर्ता 19 जुलाई को मुंबई में बैठक करेंगे। हमने अभी धोनी से कुछ नहीं सुना है, लेकिन खिलाड़ी और चयनकर्ता के बीच क्या बातचीत होगी यह मायने रखता है। अगर आप मुझसे पूछेंगे तो धोनी ने विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन किया था। सिर्फ वही फैसला कर सकते है कि वह आगे खेलना चाहते है या नहीं।’’

पढ़ें:- विश्‍व चैंपियन बनने के बाद कप्‍तान मोर्गन बोले- फाइनल का दिन हमारा था

कप्तान विराट कोहली और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को तीन-तीन मैचों की टी20 अंतरराष्ट्रीय और सीरीज से विश्राम दिये जाने की संभावना है जबकि दोनों 22 अगस्त से शुरू हो रही दो मैचों की टेस्ट सीरीज की टीम में वापसी कर सकते है। ये पांच दिवसीय मैच विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप का हिस्सा होंगे।

सलामी बल्लेबाज शिखर धवन की उपलब्धता के बारे में भी आधिकारिक तौर पर कुछ भी नहीं बताया गया है जो अंगूठे में चोट के कारण विश्व कप से बाहर हो गये थे। विश्व कप में भारत की हार के बाद यह सीओए की पहली बैठक थी लेकिन विनोद राय की अध्यक्षता वाली समिति ने टीम के प्रदर्शन पर कुछ चर्चा नहीं की।

पढ़ें:- पूर्व दिग्गजों ने आईसीसी के ‘बाउंड्री गिनने वाले नियम’ को लताड़ा

हालांकि तीन सदस्यीय पैनल और वीडियो कांफ्रेस से लंदन से जुड़े सीईओ राहुल जौहरी ने खिलाड़ियों के द्वारा मैचों के चुनने का मुद्दा उठाया। जौहरी आईसीसी की बैठकों के लिए लंदन में ही रूके है। दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने धोनी और धवन जैसे बल्लेबाजों को विश्व कप से पहले घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट में नहीं खेलने का मुद्दा उठाया था।

बीसीसीआई के अधिकारी ने कहा, ‘‘ सवाल यह उठता है कि खिलाड़ियों को टूर्नामेंटों को चुनने का अधिकार कौन देता है। क्या यह फैसला वह खुद ले रहे हैं और क्या वे चयनकर्ताओं को इसके बारे में बता रहे है? इस मुद्दे पर बेहतर संवाद की जरूरत है।’’