India vs Australia, 1st ODI: India’s World Cup fine-tuning gets underway in Australia Series
Virat-Kohli-MS-Dhoni @afp

भारतीय क्रिकेट टीम शनिवार से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शुरू हो रही 5 मैचों की वनडे सीरीज में भी प्रयोग करना जारी रखेगी ताकि ‘विश्व कप टीम’ के स्थान सुनिश्चित हो सकें।

टीम धीरे-धीरे विश्व कप के रंग में ढल रही है और जहां तक कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का संबंध है तो हाल में समाप्त हुई टी-20 सीरीज में 0-2 की हार से भी इस योजना पर कोई असर नहीं  पड़ेगा।

कोहली ने बेंगलुरू में दूसरे टी-20 में मिली हार के बाद कहा था, ‘हर टीम विश्व कप से पहले खुद को बेहतर करना चाहती है और हम वनडे सीरीज में भी यही क्रम जारी रखेंगे लेकिन फिर भी हम हर मैच को जीतना चाहते हैं।’

चार खिलाड़ियों पर रहेगी नजर

इस सीरीज में कम से कम चार खिलाड़ियों के प्रदर्शन को देखा जाएगा और अच्छा प्रदर्शन सुनिश्चित करेगा कि उन्हें विश्व कप टीम में प्रवेश मिलेगा या नहीं। लोकेश राहुल, रिषभ पंत, विजय शंकर और सिद्धार्थ कौल ये चार खिलाड़ी हैं जो ब्रिटेन जाने वाली 15 सदस्यीय टीम में दो उपलब्ध स्थान के लिए जद्दोजहद करेंगे।

पढ़ें: ‘आईपीएल का भारतीय विश्व कप स्क्वाड पर कोई प्रभाव नहीं होगा’

हालांकि कइयों का मानना है कि दिनेश कार्तिक को भी टीम में जगह बनाने के मौके से बाहर नहीं किया जा सकता और वो भी इन खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर निगाह लगाए होंगे।

लेकिन इन चार खिलाड़ियों के लिए ये पांच मैच ‘परीक्षा की घड़ी’ होंगे और अंतिम एकादश में शामिल किए जाने के बाद वे अपना सर्वश्रेष्ठ करना चाहेंगे।

केएल राहुल को टॉप ऑर्डर में मौका मिलने की उम्‍मीद

केएल राहुल ने दो टी-20 मैचों में 50 और 47 रन की पारी खेली, वह अच्छी लय में हैं और शीर्ष क्रम में उन्हें और मौके मिलने की उम्मीद है।

यह बल्लेबाज रिजर्व सलामी बल्लेबाज के स्थान को कब्जाना चाहता है और कौन जानता है, अगर शिखर धवन की अनिरंतर फॉर्म जारी रहती है तो वह टीम में स्थान पक्का कर सकता है।

पढ़ें : एरोन फिंच बोले- विराट कोहली वनडे के ऑलटाइम महान खिलाड़ी

सभी की निगाहें रिषभ के प्रदर्शन पर लगी हैं जो छोटे प्रारूप में निरंतर प्रदर्शन नहीं कर सके हैं लेकिन उसकी प्रतिभा और अकेले दम पर मैच में जीत दिलाने की क्षमता को देखते हुए टीम प्रबंधन अंतिम फैसला करने से पहले उसे कुछ और मैच देना चाहेगा।

चोटिल हार्दिक पांड्या की जगह विजय शंकर होड़ में

ऑलराउंडर विजय शंकर की गेंदबाजी इतनी बेहतर नहीं है लेकिन हार्दिक पांड्या की फिटनेस के कारण वह दूसरे ऑलराउंडर के स्थान पर दावा करने के लिए दौड़ में बने रहेंगे। हालांकि पांड्या पहली पसंद रहेंगे।

कौल टीम में रिजर्व तेज गेंदबाज के रूप में जगह बना सकते हैं क्योंकि टीम प्रबंधन की खलील अहमद को परखने की योजना का मनमुताबिक नतीजा नहीं मिला।

मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह पहली पसंद हैं, जिससे कौल को अपनी काबिलियत साबित करने के लिए शायद दो मैच मिल सकते हैं।

लेकिन कोहली और कोच शास्त्री ‘कोर टीम’ में ज्यादा छेड़छाड़ नहीं करना चाहेंगे क्योंकि सीरीज में शानदार जीत हमेशा बेहतर होगी।

फिंच और ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ियों के लिए अलग चुनौती

अंबाती रायडू, अनुभवी ऑलराउंडर केदार जाधव और मोहम्‍मद शमी भारतीय टीम में वापसी कर चुके हैं तो एरोन फिंच और उनके खिलाड़ियों के लिए वनडे सीरीज पूरी तरह से अलग तरह की चुनौती होगी।

वहीं कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव ओर युजवेंद्र चहल की जोड़ी मध्य के ओवरों में रन गति पर लगाम कसने का काम करेगी। जाधव की गेंदबाजी का सामना करने में ग्लेन मैक्सवेल, डार्सी शॉर्ट, मार्कस स्टोइनिस और शॉन मार्श को परेशानी हो सकती है।

बुमराह को सीरीज में भारत की स्थिति को देखते हुए एक या दो मैचों में आराम दिया जा सकता है क्योंकि वह इंग्लैंड में भारत के मुख्य गेंदबाज होंगे।

टी-20 की लय को जारी रखना चाहेगी ऑस्‍ट्रेलियाई टीम

वहीं ऑस्ट्रेलियाई टीम टी-20 की लय को जारी रखना चाहेगी। नाथन लियोन की मौजूदगी उसके स्पिन विभाग को पैना करेगी जिसमें उनके साथ एडम जम्पा होंगे।

चोटिल केन रिचर्डसन की जगह शामिल हुए एंड्रयू टाई आईपीएल फ्रेंचाइजी के अनुभव का फायदा उठाना चाहेंगे।

टीम इस प्रकार है।

भारत :

विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, अंबाती रायडू, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), केदार जाधव, विजय शंकर, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, रिषभ पंत, सिद्धार्थ कौल, लोकेश राहुल, रविंद्र जडेजा।

आस्ट्रेलिया :

एरोन फिंच (कप्तान), डार्सी शॉर्ट, शॉन मार्श, मार्कस स्टोइनिस, उस्मान ख्वाजा, एलेक्स केरी, पीटर हैंड्सकॉम्‍ब, एश्‍टन टर्नर, एडम जम्पा, जेसन बेहरेनडोर्फ, झाय रिचर्डसन, पैट कमिंस, एंड्रयू टाई, नाथन कूल्टर नाइल, नाथन लियोन।