© AFP
© AFP

चेन्नई वनडे में जीत हासिल कर विराट कोहली ने एम एस धोनी के एक बड़े रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया और ये रिकॉर्ड तोड़ने में खुद एम एस धोनी ने विराट कोहली की मदद की। दरअसल चेन्नई वनडे में जीत हासिल कर विराट ने कप्तान के तौर पर तीनों फॉर्मेट में लगातार 10वीं जीत हासिल की। इस तरह विराट ने धोनी का रिकॉर्ड तोड़ दिया जिनके नाम लगातार 9 जीत थी। कप्तान के तौर पर विराट की इस कामयाबी की स्क्रिप्ट खुद एम एस धोनी ने अपने बल्ले से लिखी। एक समय टीम इंडिया मुश्किल हालात में फंसी थी, उसने 5 विकेट सिर्फ 87 रन पर गंवा दिए थे। ऐसे वक्त पर धोनी ही थे जिन्होंने हार्दिक पांड्या के साथ टीम इंडिया को ना सिर्फ संभाला बल्कि उसे बड़े स्कोर की ओर भी ले गए।

एम एस धोनी ने चेन्नई वनडे में 88 गेंद में 79 रनों की पारी खेली। छठे विकेट के लिए उन्होंने हार्दिक पांड्या के साथ 118 रनों की साझेदारी की। एम एस धोनी आखिरी ओवर तक विकेट पर टिके रहे और उन्होंने भुवनेश्वर कुमार के साथ भी 72 रनों की तेज तर्रार साझेदारी कर टीम इंडिया को 50 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 281 रनों तक पहुंचाया।

फील्डिंग के वक्त भी एम एस धोनी ने गेंदबाजों को संभाला और उनके लिए फील्डिंग सेट की। धोनी भले ही कप्तान ना रहे हों लेकिन वो चेन्नई वनडे के दौरान विराट कोहली और युवा गेंदबाजों को सलाह देते दिखे। खुद कप्तान विराट कोहली मानते हैं कि भले ही धोनी ने कप्तानी छोड़ दी है लेकिन धोनी हमेशा उनके और टीम इंडिया के कप्तान बने रहेंगे।