© AFP
© AFP

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज में हार्दिक पांड्या ने अपनी बल्लेबाजी की अलग ही छाप छोड़ी है। हार्दिक पांड्या को आमतौर पर नंबर 7 का बड़े शॉट खेलने वाला बल्लेबाज माना जाता था लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पिछले तीन वनडे मैचों में हार्दिक पांड्या ने इस सोच को बदल दिया है। पांड्या ने इंदौर वनडे में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए जबर्दस्त अर्धशतक लगाया और टीम इंडिया की जीत तय की। हार्दिक पांड्या की बल्लेबाजी से पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ खासे प्रभावित हुए हैं। द्रविड़ को लगता है कि हार्दिक पांड्या ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा सीरीज में हालात के मुताबिक खेलकर अपने करियर का रूख बदल दिया है।

राहुल द्रविड़ ने बयान दिया, ‘हार्दिक किसी भी परिस्थिति में खेलने को तैयार रहते हैं जिसका श्रेय पूरी तरह से उन्हें दिया जाना चाहिए। वो ऐसे खिलाड़ी हैं जिसने अपने करियर का रुख बदल दिया है।अगर पांड्या चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करते हैं तो वो एक अलग तरह से बल्लेबाजी करते हैं। अगर पांड्या छठे नंबर पर खेलते हैं तो वो दूसरे तरीके से खेलते हैं। कल अगर पांड्या चार विकेट पर 80 रन के स्कोर पर बल्लेबाजी के लिये उतरेंगे तो वो शायद ऐसा ही करेंगे जैसा उसने पहले वनडे में धोनी के साथ किया था। पांड्या में परिपक्वता दिखती है और आप यही देखना चाहते हो। ‘

पिछले कुछ दिनों से हार्दिक पांड्या लंबे-लंबे छक्के लगाने वाले बल्लेबाज के तौर पर काफी शोहरत पा रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 मैचों में वो 9 छक्के जड़ चुके हैं। यही नहीं पांड्या सीरीज में दो अर्धशतक भी जड़ चुके हैं। पहले वनडे में उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी के साथ मिलकर 83 रन की मैच विजयी पारी खेली जबकि तीसरे वनडे में जब उन्हें चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये भेजा गया तो उन्होंने 78 रन की पारी खेली। बल्ला और बैटिंग पैड बदलने से धूम मचा रहे हैं एम एस धोनी!

द्रविड़ ने हार्दिक के प्रदर्शन पर कहा, ‘मैं अकसर नेचुरल खेल की बात सुनता हूं, लेकिन इससे मुझे निराशा होती है क्योंकि मेरा मानना है कि नेचुरल खेल जैसी कोई चीज नहीं होती। आपको सिर्फ परिस्थितियों के अनुसार खेलना होता है। आपको अलग परिस्थितियों में अलग तरह से बल्लेबाजी करना सीखना चाहिए और अगर आप ऐसा कर सकते हो जैसा हार्दिक इस समय प्रदर्शन कर रहे हैं तो ये क्रिकेटर के विकास का संकेत है।’ ( पीटीआई के इनपुट के साथ)