रोहित शर्मा © Getty Images
रोहित शर्मा © Getty Images

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 17 सितंबर से 13 अक्तूबर के बीच होने वाली सीरीज आईसीसी के पुराने नियमों के तहत ही खेली जाएगी। आईसीसी के नए नियम 28 सितंबर से लागू हो गए हैं लेकिन बावजूद इसके दोनों टीम पुराने नियम से ही सीरीज खेलेंगे। टीम इंडिया नए आईसीसी नियमों से न्यूजीलैंड के खिलाफ पहली सीरीज खेलेगी, जो कि अक्टूबर में होगी।

क्यों लिया गया ये फैसला? 

भारत और ऑस्ट्रेलिया की सीरीज 13 अक्तूबर तक चलेगी और ऐसे में आईसीसी ने किसी तरह की भ्रम के हालात से बचने के लिये इसे पुराने नियमों के अनुसार ही करवाने का फैसला किया। इस सीरीज में पांच वनडे और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जाएंगे।

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘हां, नियम 28 सितंबर को शुरू होने वाले दो टेस्ट मैचों (बांग्लादेश बनाम दक्षिण अफ्रीका और पाकिस्तान बनाम श्रीलंका) से लागू हो जाएंगे। ऑस्ट्रेलिया बनाम भारत और इंग्लैंड बनाम वेस्टइंडीज दोनों सीरीज 17 सितंबर को शुरू होंगी। ‘उन्होंने कहा, ‘ये दोनों सीरीज अक्तूबर तक चलेंगी लेकिन एक सीरीज में दो अलग तरह के नियमों को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा नहीं हो इसलिए आईसीसी ने इनका आयोजन पुराने नियमों से करवाने का फैसला किया।’ चटगांव टेस्ट: बल्लेबाजी के दौरान पीटर हैंड्सकॉम्ब का वजन 4.5 किलो घटा

क्या हैं नए नियम

नये नियमों के मुताबिक अगर एलबीडब्ल्यू के लिए रेफरल ‘अंपायर्स कॉल’ के तौर पर वापस आता है तो टीम अपना रिव्यू नहीं गंवाएंगी। जहां अंपायर्स कॉल में डीआरएस नियम में बदलाव किया गया है वहीं टेस्ट मैचों में 80 ओवर के बाद दो नये रिव्यू जुड़ने का मौजूदा नियम खत्म हो जाएगा। आईसीसी ने अंपायरों को हिंसा समेत गलत बर्ताव करने वाले खिलाड़ी को मैदान से बाहर भेजने का अधिकार भी दिया है। दूसरे सभी अपराध पहले की तरह आईसीसी आचार संहिता के तहत आएंगे। बल्ले के आकार को लेकर भी नियम बनाये गये हैं। इसके अलावा अगर क्रीज पार करने के बाद बल्ला हवा में रहता है तो बल्लेबाज को आउट नहीं दिया जाएगा। अभी ऐसी स्थिति में बल्लेबाज को आउट दिया जाता है।