© AFP
© AFP

चेन्नई वनडे में शून्य पर आउट होने वाले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने कोलकाता में जबर्दस्त पलटवार किया। विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ शानदार 92 रनों की पारी खेली। हालांकि विराट कोहली अपने 31वें वनडे शतक से चूक गए। विराट कोहली जब 92 रन थे उन्हें कूल्टर नाइल ने बोल्ड कर दिया। विराट कोहली ने शरीर के पास आती हुई गेंद को थर्ड मैन पर खेलने की कोशिश की लेकिन गेंद उनके बल्ले का अंदरूनी किनारा लेते हुए विकेट पर जा लगी।

विराट कोहली अगर कोलकाता में शतक लगा लेते तो ये उनके वनडे करियर का 31वां शतक होता। विराट कोहली 31वां शतक लगाते ही ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज बल्लेबाज और पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग को पीछे छोड़ देते। पॉन्टिंग ने अपने 375 वनडे के करियर में 30 शतक लगाए थे। विराट कोहली वनडे शतकों के मामले में पॉन्टिंग के साथ दूसरे नंबर पर हैं। वनडे में सबसे ज्यादा 49 शतक सचिन तेंदुलकर के नाम हैं। एम एस धोनी के बल्ले में छिपा है उनकी जबर्दस्त फॉर्म का ‘राज’

5वीं बार नर्वस 90 के शिकार

विराट कोहली अकसर जब भी अर्धशतक लगाते हैं तो उनका बल्ला शतक पर ही रुकता है लेकिन कोलकाता में ऐसा नहीं हुआ। आपको बता दें विराट अपने वनडे करियर में 5वीं बार नर्वस 90 का शिकार हुए। विराट साल 2010 में पहली बार नर्वस 90 का शिकार हुए थे। बांग्लादेश के खिलाफ मीरपुर में वो 91 रन पर आउट हुए। इसके बाद 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 94, वेस्टइंडीज के खिलाफ वाइजैग में 99 पर आउट हुए। विराट ने साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पर्थ वनडे में 91 रन पर अपना विकेट गंवाया और अब एक साल बाद एक बार फिर विराट ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाफ 92 रन पर आउट हो गए।