India vs Australia, 2nd T20: Preview and Likely xi
Rohit Sharma with Virat Kohli ©PTI

विराट एंड कोहली कंपनी ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ शुक्रवार को दूसरा टी-20 मुकाबला जीतकर तीन मैचों की सीरीज में बराबरी के इरादे से मेलबर्न क्रिकेट मैदान (एमसीजी) पर उतरेगी।

सीरीज के पहले मुकाबले में मेजबान ऑस्‍ट्रेलिया ने बारिश से बाधित मुकाबले में मेहमान टीम इंडिया को 4 रन से मात दी थी। तीन मैचों की सीरीज में ऑस्‍ट्रेलिया 1-0 से आगे है।

कोहली की कप्‍तानी में भारतीय टीम लगातार 7 द्विपक्षीय टी20 सीरीज जीत चुकी है। ऐसे में उसकी कोशिश इस लय को बरकरार रखने की होगी। टीम मैनेजमेंट गेंदबाजी और बल्‍लेबाजी संयोजन दोनों में बदलाव कर सकती है।

केएल राहुल पिछले 6 मैच में 30 के आंकड़े को पार नहीं कर सके हैं

ब्रिसबेन में खेले गए पहले टी-20 मैच में लोकेश राहुल को तीसरे नंबर पर बल्‍लेबाजी के लिए भेजा गया था। लेकिन राहुल कुछ खास कमाल नहीं कर पाए थे। खराब फॉर्म के मद्देनजर भारतीय बल्लेबाजी क्रम में परिवर्तन हो सकता है।

इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में पहले टी20 में नाबाद 101 रन बनाने के बाद से केएल राहुल अगले छह मैच में 30 रन के पार भी नहीं जा सके हैं।

टीम प्रबंधन ने उन्हें तीसरे नंबर पर बरकरार रखा है जबकि कोहली खुद चौथे नंबर पर उतर रहे हैं। राहुल को लय हासिल करने की जरूरत है क्योंकि वह टेस्ट सीरीज में भारत के शीर्षक्रम का हिस्सा होंगे।

युजवेंद्र चहल को मिल सकता है मौका

टीम प्रबंधन गेंदबाजी आक्रमण पर भी दोबारा विचार कर सकता है। हरी-भरी पिच पर क्रुणाल पांड्या ने चार ओवरों में 55 रन दे डाले और उन पर छह छक्के पड़े।

एमसीजी की पिच भी ऐसी ही रहती है तो कोहली लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल को उतार सकते हैं जिनका टी20 क्रिकेट में उम्दा रिकॉर्ड है। इतनी करीबी हार के बाद यह देखना होगा कि टीम प्रबंधन क्या बदलाव करता है। पांड्या को बाहर करने से एक बल्लेबाज कम हो जाएगा और कोहली यह जुआ नहीं खेलना चाहेंगे। पहले मैच से पूर्व कोहली ने कहा था कि गलतियों पर अंकुश लगाकर निर्णायक क्षणों में दबाव बनाए रखना जरूरी है।

भारतीय फील्‍डरों ने किया निराश

ब्रिसबेन में भारतीय टीम फील्डिंग में भी अपेक्षा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर सकी। कोहली ने खुद दो बार गलती की। पहले ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एरोन फिंच का कैच छोड़ा और बाद में डीप में फील्डिंग में चूक की।

सीरीज में पांच दिन के भीतर तीन मैच होने के कारण कमजोरियों पर काम करने का समय काफी कम है। फील्डिंग कोच आर श्रीधर एमसीजी पर होने वाले मैच से पहले खिलाड़ियों के साथ काम नहीं कर सके होंगे। ड्रेसिंग रूम में सैद्धांतिक तौर पर ही इसके बारे में बताया गया होगा। ऑस्ट्रेलिया में मैदान बड़े होने के कारण चौके लगाना काफी चुनौतीपूर्ण होता है।

जांपा को उतारना ऑस्‍ट्रेलिया के लिए रहा फायदेमंद

एकमात्र स्पिनर के रूप में एडम जांपा को उतारना ऑस्ट्रेलिया के लिये फायदेमंद रहा। पहले मैच में मिली जीत से अब मेजबान टीम के हौसले बुलंद होंगे। इस सप्ताह मेलबर्न में तूफानी हवाएं चलती रही हैं और इस मैच पर भी बारिश की गाज गिर सकती है।

लिन, मैक्‍सवेल और स्‍टोइनिस ने बटोरे थे तेजी से रन

ऑस्ट्रेलिया की बात की जाए तो बल्लेबाजी में टीम ने शानदार प्रदर्शन किया था। एरोन फिंच और डार्सी शॉर्ट की सलामी जोड़ी ही विफल रही थी बाकि क्रिस लिन, ग्लैन मैक्सेवल और मार्कस स्टोइनिस ने तेजी से रन बटोरे थे।

स्टोइनिस ने न सिर्फ बल्ले से बल्कि गेंद से भी अहम योगदान दिया था। वह ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी आक्रमण का अहम हिस्सा हैं।

टीमें - भारत :

विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, केएल राहुल, मनीष पांडे, श्रेयस अय्यर, दिनेश कार्तिक, ऋषभ पंत, क्रुणाल पांड्या, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव, खलील अहमद, वाशिंगटन सुंदर।

ऑस्ट्रेलिया :

एरोन फिंच (कप्तान) एश्‍टन एगर, जेसन बेहरेनडोर्फ, एलेक्स कैरी, नाथन कूल्टर नाइल, क्रिस लिन, बेन मैकडरमोट, ग्लेन मैक्सवेल, डार्सी शॉर्ट, बिली स्टेनलेक, मार्कस स्टोइनिस, एंड्रयू टाई, एडम जांपा।