विराट कोहली © IANS
विराट कोहली © IANS

भारतीय कप्तान विराट केाहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच की जीत को अपने कप्तानी करियर की सर्वश्रेष्ठ जीत करार दिया और अपनी टीम की तुलना सांप से भी की जो किसी भी दिशा से डंक मार सकता है। भारत ने दूसरे मैच में 75 रन से जीत दर्ज कर चार मैचों की सीरीज को 1-1 की बराबर पर ला दिया है। कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘हां यह सर्वश्रेष्ठ जीत है। मैं ज्यादा नहीं कहना चाहता क्योंकि मैच का परिणाम वैसा ही निकला जैसा हम चाहते थे। यह हमारे लिए काफी भावनात्मक मैच था। ’’ नाथन लियोन के कोहली के विकेट को लेकर की गई नागमणि संबंधी टिप्पणी के संदर्भ में भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘सब कुछ अनुकूल रहा। अगर नागमणि को लेकर बात करूं तो मणि ने अपना काम अच्छी तरह से किया। यहां केवल एक खिलाड़ी से नहीं जुड़ा है। यह सांप किसी भी दिशा से डंक मार सकता है। कुछ लोगों को अपने दिमाग में यह बात रखने की जरूरत है।’’

कोहली ने अपने गेंदबाजों की तारीफ की जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में बड़ी बढ़त हासिल नहीं करने दी। उन्होंने कहा, ‘‘हां हमारे गेंदबाजों ने दूसरे दिन के पहले सत्र में केवल 47 रन दिये। ऑस्ट्रेलिया हमसे मैच छीन सकता थे, क्योंकि एक समय उनका स्कोर बिना किसी नुकसान के 40 रन था। संभवत: उस समय पासा पलटा और हमने 100 से कम रन देकर छह विकेट हासिल कर लिए। यहां से हमने वापसी की। ’’ कोहली ने मैच में सात विकेट लेने वाले रविंद्र जडेजा को बेजोड़ करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘उमेश और इशांत ने अच्छा साथ दिया। जब चीजें आपके अनुकूल नहीं हों तो आपको एक टीम के रूप में ऐसी चीजों की जरूरत पड़ती है। लेकिन हमने कभी प्रयास कम नहीं किए। हमने हार नहीं मानी और विरोधी टीम को भी हावी नहीं होने दिया और उन्हें पहली पारी में बड़ी बढ़त नहीं लेने दी।’’ ये भी पढ़ें: दूसरे टेस्ट मैच में स्टीवन स्मिथ के आउट होने पर मचा बवाल

भारतीय कप्तान ने कहा कि इस जीत से यह भी साफ हो गया कि भारत रन बनाने के लिए केवल उन पर ही निर्भर नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘विरोधी टीमें यह सोचतीं हैं कि एक बार मैं आउट हो गया तो टीम दबाव में आ जाएगी। मैंने टीम से कहा था कि हर किसी को प्रदर्शन करना होगा। अगर मेरा प्रदर्शन अच्छा रहता है और टीम जीतती है तो मुझे खुशी होती है। इसलिए हमारी रणनीति टीम प्रदर्शन पर ध्यान देने की थी और विरोधी टीम को मुझ पर ध्यान केंद्रित रखने की थी। इस टेस्ट मैच में ऐसा ही हुआ।’’ कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विकेटकीपर इयान हीली की आलोचना को तवज्जो नहीं दी जिन्होंने कहा था कि अपने मैदानी व्यवहार के कारण उन्होंने भारतीयों में अपना सम्मान गंवा दिया। उन्होंने कहा, ‘‘भारत में एक अरब 20 करोड़ लोग रहते हैं और एक व्यक्ति कोई अंतर पैदा नहीं कर सकता।’’

कोहली ने कहा कि पिछले दस दिन टीम के लिए चुनौतीपूर्ण रहे, ‘लेकिन हमने खुद पर किसी तरह का दबाव नहीं बनने दिया।’ कप्तान ने दोनों पारियों में आउट होने के बाद रेफरल लेने के फैसले का बचाव किया। दोनों अवसरों पर उनका फैसला गलत साबित हुआ। उन्होंने कहा, ‘‘यह किसी के साथ भी हो सकता है। एक बल्लेबाजी गलती करता है और आउट हो जाता है।’’