भारतीय टीम © PTI
भारतीय टीम © PTI

भले ही ऑस्ट्रेलियाई टीम पहले टेस्ट को जीतने के बाद सीरीज में 1-0 की बढ़त बना चुकी हो, लेकिन पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क को लगता है कि भारत को पुणे की तुलना में बेंगलुरू में हराना काफी मुश्किल होगा क्योंकि पुणे में टॉस जीतना स्टीवन स्मिथ के खिलाड़ियों के पक्ष में रहा था। क्लार्क ने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया के लिए भारत को पुणे की तुलना में बेंगलुरू में हराना काफी कठिन होगा। अगर भारत टॉस जीत गया होता और पुणे में उसने बल्लेबाजी की होती तो मुझे नहीं लगता कि परिणाम ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में होता।’’ पूर्व कप्तान का मानना है, ‘‘भारत में पहली पारी का स्कोर काफी अहम होता है। अगर आप पहली पारी में 450 रन या इससे ज्यादा का स्कोर बनाते हो तो यह माएने नहीं रखता कि टॉस किसने जीता। पहली पारी में आपने जैसी बल्लेबाजी की, उसका मैच पर असर होता है। इसलिए पहली पारी में ज्यादा से ज्यादा रन जुटाना, दोनों टीमों का लक्ष्य होना चाहिए। ’’ क्लार्क ने कहा कि बेंगलुरू में विकेट अंतिम दो दिन में बिगड़ेगा। ये भी पढ़ें: विराट कोहली का रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर से बेहतर: सौरव गांगुली

क्लार्क ने कहा, ‘‘उप महाद्वीप में, ऐसा लगता है कि मैच पहले तीन दिन काफी धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है और फिर अंतिम दो दिन में यह खराब होना शुरू होता। गेंद अलग-अलग तरह के उछाल और तेजी से ज्यादा स्पिन होना शुरू हो जाती है और इससे बल्लेबाजों को परेशानी होनी शुरू हो जाती है। ’’ आपको बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा टेस्ट मैच 4 मार्च से खेला जाना है। पहले टेस्ट को जीतकर ऑस्ट्रेलिया के हौसले बुलंद हैं, तो वहीं बेंगलुरू में होने वाले दूसरे टेस्ट को जीतकर भारत की कोशिश सीरीज में वापसी करने की होगी।