India vs Australia, 2nd Test: Tim Paine wants flexibility in his batting order
Tim Paine @ Twitter

एडिलेड टेस्‍ट में ऑस्‍ट्रेलिया की जीत के सूत्रधार बने कप्‍तान टिम पेन को मैन ऑफ द मैच मिला। मुश्किल वक्‍त में उन्‍होंने टीम के लिए अहम पारी खेली और भारत को बड़ी लीड नहीं लेने दिया। मेलबर्न में होने वाले बॉक्सिंग डे टेस्‍ट से पहले टिम पेन का कहना है कि वो अपनी बल्‍लेबाजी के क्रम में लचीलापन चाहते हैं जो वक्‍त जिसे वक्‍त के हिसाब से बदला जा सके।

बॉक्सिंग डे टेस्ट में डेब्यू करेंगे गिल, सिराज; जडेजा, पंत को भी मौका

टिम पेन ने साथ ही कहा कि बॉक्सिंग डे टेस्‍ट में भारत के खिलाफ पहले टेस्ट मैच मे किया गया प्रदर्शन दूसरे टेस्ट में उनके ऊपर अतिरिक्त दबाव लेकर नहीं आएगा। भारत और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मैच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) पर शनिवार से शुरू हो रहा है।

पेन ने एडिलेड ओवल मैदान पर खेले गए पहले टेस्ट मैच में नाबाद 73 रनों की अहम पारी खेली थी जो ऑस्‍ट्रेलिया की आठ विकेट की जीत का एक अहम कारण बनी। बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच से पहले शुक्रवार को पेन ने कहा, बल्लेबाज के तौर पर मेरी पारियां कम रही हैं, और ऐसी कम ही रही हैं जिनका खेल पर प्रभाव पड़ा हो। मैं भाग्यशाली हूं कि इस महान टीम में आमतौर पर हमारे शीर्ष-6 बल्लेबाज काम कर देते हैं।

UAE T10 League 2021 का शेड्यूल जारी, इस सीजन ये भारतीय खिलाड़ी खेलते आएंगे नजर

“पिछले मैच में मुझे मौका मिला था कि मैं अपना योगदान दे सकूं, इसलिए वो योगदान देकर मुझे अच्छा लगा। इसलिए अगर मैं 5-400 या 5-70 पर बल्लेबाजी करने जाता हूं तो मेरे ऊपर एक जिम्मेदारी रहती है। जैसा मैंने कहा, मेरी भूमिका इसे लेकर भी बदलती है कि मैं किसके साथ बल्लेबाजी कर रहा हूं और मैच की स्थिति क्या है।“

 

टिम पेन ने कहा, मैं अपने बल्लेबाजी क्रम को लेकर लचीला रहना चाहता हूं। कई बार मेरी बारी होती है कि मैं रन बनाऊं और एडिलेड में यही था। उम्मीद है कि इस सप्ताह हम बोर्ड पर काफी सारे रन टागेंगे।

पेन ने हाल ही में द आस्ट्रेलियन अखबार में एक कॉलम लिखा था जिसमें उन्होंने बताया था कि मार्नस लाबुशाने ने शेफील्ड मैच के दौरान उनकी बल्लेबाजी में तकनीकी तौर पर मदद की।

एडिलेड में Virat Kohli को रनआउट कराने को लेकर Ajinkya Rahane ने खुलकर रखी अपनी बात, बोले- मैंने उसे कहा था….

उन्होंने कहा, साउथ ऑस्‍ट्रेलिया के शील्ड मैच के दौरान मैंने कुछ बदलाव किए थे जो मुझे अच्छे लगे। मेरे लिए यह समय है कि मैं उन बदलावों का आदि हो जाऊं और इनके बारे में सोचने के बजाए उन्हें अपने व्यवहार में शामिल कर लूं। मैं वह खुशी अब महसूस कर सकता हूं।