विराट कोहली-हार्दिक पांड्या © AFP
विराट कोहली-हार्दिक पांड्या © AFP

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज 3-0 से जीतने के बाद कप्तान विराट कोहली ने मैन ऑफ द मैच हार्दिक पांड्या की जमकर तारीफ की। कोहली ने कहा, “रोहित और रहाणे ने अच्छी बल्लेबाजी की और फिर पांड्या ने ऐसी बल्लेबाजी की जो केवल वही कर सकता है। वो स्टार है, उसके पास बल्ले, गेंद और फील्डिंग में शानदार प्रदर्शन करने की योग्यता है। हमें पिछले 5-6 सालों से उसके जैसे खिलाड़ी की जरूरत थी। हमें एक धमाकेदार ऑलराउंडर की जरूरत थी और उसके आने से टीम में संतुलन आया है। वह टीम का एक जरूरी हिस्सा है।” आज के मैच में पांड्या को निचले क्रम की बजाय चौथे स्थान पर बल्लेबाजी के लिए भेजना का फैसला काफी आश्चर्यजनक था। कोहली ने बताया कि कोच रवि शास्त्री ने पांड्या को ऊपरी क्रम में भेजने का सुझाव दिया था।

कोहली ने आगे कहा, “आज पांड्या को ऊपर भेजना रवि भाई का विचार था। उन्हें लगा कि यहां स्पिनरों को अटैक करने की जरूरत है। हमने उस पर पूरा भरोसा दिखाया, वह काफी मेहनती खिलाड़ी है।” पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया टीम को काफी अच्छी शुरुआत मिली थी, एक समय 400 का स्कोर साफ लग रहा था लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने मैच में जबरदस्त वापसी की। इस बारे में कोहली ने कहा, “उन्होंने काफी अच्छी बल्लेबाजी की लेकिन हमें पता था कि अगर हमें 2-3 विकेट मिल जाते हैं तो हम मैच में वापस आ जाएंगे। मुझे लगा था कि ये 330-340 का विकेट है। जरूरत के समय हमारे गेंदबाजों ने जिम्मेदारी ली, ये इस टीम की खासियत है। मुश्किल स्थिति से वापस लाकर उन्होंने हमें भरोसा दिलाया कि वह आगे भी इस तरह की मुश्किलों से टीम को बाहर ला सकते हैं। रिस्ट स्पिनरों का साथ देने की जरूरत है। मेरा मानना है कि वो 35-40 रन कम रह गए।” [ये भी पढ़ें: टीम इंडिया बनी नंबर वन, जाने इंदौर वनडे की बड़ी बातें]

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीवन स्मिथ का भी कुछ यही मानना है, मैच के बाद उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि हमने बल्लेबाजी की शुरुआत काफी अच्छी की थी लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने अपनी योजना के हिसाब से खेला और हम ऐसा नहीं कर पाए। हम बाउंड्री नहीं निकाल पाए। 330 से ज्यादा का स्कोर बनता को नतीजा कुछ और हो सकता था लेकिन भारत को जीत का श्रेय मिलना चाहिए। हार्दिक शानदार था, रोहित और जिंक्स (अजिंक्य रहाणे) ने भी कमाल किया। मुझे लगता है कि फिंची (एरन फिंच) भी धमाकेदार था, उसका शतक बेहतरीन था। पिच 35 ओवर तक दोनों टीमों के लिए एक जैसी ही थी। आखिर तक आते-आते पिच धीमी हो गई। हमे जो स्कोर चाहिए था हम वह नहीं बना सके।” [ये भी पढ़ें: भारत ने 5 विकेट से इंदौर वनडे जीत सीरीज पर कब्जा किया]

भारत सीरीज में 3-0 से कब्जा कर चुका है, ऐसे में मुमकिन है कि आगामी वनडे मैचों में कोहली टीम में कुछ नए प्रयोग करें। इस बारे में कप्तान ने कहा, “यहां से हम कुछ लोगों को मौके देंगे लेकिन सभी 15 खिलाड़ियों को पता है कि मैदान में उतरते ही हमें आक्रामक खेल दिखाना होगा। मुझे पता है कि हम हर दिन ऐसा नहीं कर पाएंगे लेकिन मानसिकता रखना जरूरी है। सीरीज जीतने का श्रेय पूरे स्क्वाड को मिलना चाहिए लेकिन हमारा सफर आखिरी मैच पर ही खत्म होगा।”