एरन फिंच-डेविड वॉर्नर © Getty Images
एरन फिंच-डेविड वॉर्नर © Getty Images

लगातार तीन वनडे मैच हारने के बाद ऑस्ट्रेलिया ने बैंगलौर में आयोजित चौथे वनडे में 21 रनों से जीत दर्ज की है। इस जीत के नायक बने अपना 100वां वनडे मैच खेल रहे डेविड वॉर्नर, जिन्होंने 124 रनों की धमाकेदार पारी खेली। ऑस्ट्रेलिया को 334 के विशाल स्कोर तक पहुंचाने में वॉर्नर का साथ दिया एरन फिंच ने, जो कि 94 रन पर आउट होकर अपने शतक से चूक गए थे। वॉर्नर और फिंच के बीच 201 गेंदों में 231 रनों की साझेदारी बनी। ये साझेदारी भारत के खिलाफ ऑस्ट्रेलियाई द्वारा पहले विकेट के लिए बनाई गई सबसे बड़ी साझेदारी है। इन दोंनों खिलाड़ियों ने जॉफ मॉर्श और डेविड बून का 31 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया।

बून और मार्श ने 7 सितंबर 1986 को जयपुर में भारत के खिलाफ खेले वनडे मैच में पहले विकेट के लिए 212 रनों की साझेदारी बनाई थी। इसके अलावा फिंच और वॉर्नर ने पिछले साल 20 जनवरी को भारत के खिलाफ कैनबेरा में पहले विकेट के लिए 187 रन जोड़े थे। इस पारी के साथ वॉर्नर अपने 100वें वनडे में सबसे ज्यादा स्कोर बनाने वाले दुनिया के तीसरे खिलाड़ी बन गए हैं। बैंगलौर वनडे में भारत की ओर से भी कई बल्लेबाजों ने अच्छी पारियां खेली। इन्हीं में से एक हैं अजिंक्य रहाणे[ये भी पढ़ें: बेंगलुरू वनडे: एक मैच में बन गए 5 सबसे दिलचस्प रिकॉर्ड]

अजिंक्य रहाणे  © Getty Images
अजिंक्य रहाणे © Getty Images

रोहित शर्मा के साथ 335 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरे रहाणे ने 53 रनों की पारी खेली। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे में ये उनका लगातार तीसरा अर्धशतक है। रहाणे ने कोलकाता वनडे में 55 और इंदौर वनडे में 70 रनों की शानदार पारी खेली थी। इसी के साथ रहाणे ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगातार तीन अर्धशतक लगाने के सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। अगर रहाणे नागपुर वनडे में एक और अर्धशतक लगाते हैं तो वह सचिन का ये रिकॉर्ड तोड़ देंगे।