विकेट लेने के बाद जश्न मनाते हुए कुलदीप यादव © IANS
विकेट लेने के बाद जश्न मनाते हुए कुलदीप यादव © IANS

धर्मशाला टेस्ट के पहले दिन टीम इंडिया के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया और ऑस्ट्रेलिया को सिर्फ 300 रनों पर समेट दिया। चाइनामैन गेंदबाद कुलदीप यादव ने जहां अपने डेब्यू मैच में विकेटों का चौका लगाया तो वहीं आर अश्विन ने भी सिर्फ एक विकेट लेकर अपने नाम वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज करा लिया। कंगारू कप्तान स्टीवन स्मिथ के बल्ले से रन तो निकले ही लेकिन इसके साथ साथ उन्होंने कई रिकॉर्ड तोड़ डाले। आइए एक नजर डालते हैं उन आंकड़ों और रिकॉर्ड्स पर जो बेहद ही दिलचस्प हैं-

1. धर्मशाला में टेस्ट क्रिकेट: धर्मशाला भारत का 27वां टेस्ट वेन्यू बना। अक्टूबर 2016 के बाद से ये छठा मैदान है जिसका टेस्ट डेब्यू हुआ है। इस सीजन में इंदौर के होल्कर स्टेडियम, राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम, विशाखापट्टनम के राजशेखर रेड्डी स्टेडियम में पहली बार टेस्ट मैच खेला गया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा सीरीज में तीन स्टेडियमों को टेस्ट डेब्यू का मौका मिला। पुणे के एमसीए स्टेडियम, रांची के जेएससीए मैदान और अब धर्मशाला के मैदान पर पहली बार टेस्ट मैच खेला गया।  [ये भी पढ़ें: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, चौथे टेस्ट का पूरा स्कोरकार्ड]

2. स्टीवन स्मिथ का कमाल: कंगारू कप्तान स्टीवन स्मिथ ने सीरीज में तीसरा शतक लगाया। स्मिथ दूसरे विदेशी कप्तान हैं जिन्होंने भारत में तीन या उससे ज्यादा शतक लगाए हैं। स्मिथ ने इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक की बराबरी की जिन्होंने 2012 में भारत दौरे पर तीन शतक जमाए थे। स्टीव स्मिथ ने धर्मशाला टेस्ट में 111 रनों की पारी खेली वो ऑस्ट्रेलिया के पहले कप्तान हैं जो नेल्सन स्कोर पर आउट हुए हैं। इसके अलावा स्टीव स्मिथ ने 99 पारी में 20 शतक पूरे कर सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा। स्मिथ से तेज 20 शतक सर डॉन ब्रैडमैन (55 पारी), सुनील गावस्कर (93 पारी) और मैथ्यू हेडन (95 पारी) के नाम हैं। स्मिथ ने भारत के खिलाफ छठा शतक जड़ा। इस मामले में स्मिथ अब सिर्फ सर क्लाइव लॉयड से पीछे हैं जिन्होंने भारत के खिलाफ 7 शतक लगाए हैं।

3. अश्विन का वर्ल्ड रिकॉर्ड: रविचन्द्रन अश्विन ने स्टीव स्मिथ का विकेट लेते ही एक सीजन में सबसे ज्यादा 79 विकेट लेने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया। अश्विन ने डेल स्टेन का रिकॉर्ड तोड़ा जिनके नाम 78 विकेट थे।

4. रहाणे बने 33वें कप्तान: विराट कोहली के चोट के चलते बाहर होने के बाद अजिंक्य रहाणे को टेस्ट टीम की कमान सौंपी गई। रहाणे भारत के 33वें टेस्ट कप्तान बने।

5. कुलदीप यादव का शानदार डेब्यू: कुलदीप यादव भारत के पहले चाइनामैन गेंदबाज बने। डेब्यू टेस्ट में उन्होंने 68 रन देकर 4 विकेट लिए जो कि क्रिकेट इतिहास में किसी भी चाइनामैन गेंदबाज का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।

6. उमेश यादव बने मार्श के ‘शिकारी’- उमेश यादव ने 8वीं बार शॉन मार्श का विकेट लिया। वो शॉन मार्श को सबसे ज्यादा बार पैवेलियन की राह दिखा चुके हैं।