ऑस्ट्रेलिया दौरे पर वॉशिंग्टन सुंदर (Washington Sundar) को चौथे टेस्ट मैच में अचानक मौका मिला तो वह इस मौके के लिए बिल्कुल तैयार थे. ब्रिसबेन के गाबा मैदान पर भारतीय टीम अपनी पहली पारी में मुश्किलों में फंसी थी. 7वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे सुंदर ने शार्दुल ठाकुर के साथ कमान संभाली और 123 रन की साझेदारी कर भारत को दबाव से निकाल लिया.

भारत के लिए पहली बार सफेद जर्सी में लाल गेंद से खेल रहे सुंदर ने अपनी सूझबूझ भरी पारी से कंगारुओं का पूरा खेल बिगाड़ दिया. भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसका किला माने जाने वाले गाबा मैदान पर हराकर कमाल कर दिया. भारत की इस जीत में तमिलनाडु के 21 वर्षीय ऑलराउंडर खिलाड़ी की भूमिका खासी अहम थी. उन्होंने इस मैच में बेहतरीन बल्लेबाजी के साथ-साथ 4 उपयोगी विकेट भी अपने नाम किए, जिसमें पहली पारी में स्टीव स्मिथ का विकेट भी अहम था. बल्लेबाजी के दौरान दोनों पारियों में वह मैच की परिस्थितियों के लिहाज से ही खेले. यह युवा बल्लेबाज इसका श्रेय अपने शुरुआती दिनों में अपनी ओपनिंग बल्लेबाजी को दिया है.

https://twitter.com/Sundarwashi5/status/1352978011348340740?s=20

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी एक रिपोर्ट में इस ऑलराउंडर खिलाड़ी ने बताया, ‘निश्चितरूप से यह सच है कि मुझे ऑस्ट्रेलिया में बैटिंग के दौरान जो फायदा मिला उसके पीछे मेरा ओपनिंग का अनुभव था. जब नई गेंद ली गई तो मैं और ज्यादा विश्वस्त था. मेरे विश्वास ने और जो मेरी क्षमताएं थीं उसके मिश्रण से मुझे मदद मिली. मैं बस गेंद की मेरिट पर खेलना चाहता था. मैं खुश हूं कि मैं वहां रन बना पाया और परिस्थितियों में बैटिंग का पूरा लुत्फ उठाया.’

ऑस्ट्रेलिया की सफलता के बाद अब इस युवा खिलाड़ी को इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज की तैयारी में जुटना है. इंग्लैंड के खिलाफ 4 टेस्ट की सीरीज के पहले 2 टेस्ट चेन्नई के चेपक स्टेडियम में ही खेले जाएंगे. अगर सुंदर को यहां खेलने का मौका मिलता है तो उनके पास अपना पहला घरेलू टेस्ट अपने घरेलू मैदान पर खेलने का मौका मिलेगा.