India vs Australia: Hanuma Vihari will get full chance in middle order if fails as opener, says MSK Prasad
Hanuma Vihari (AFP Photo)

हनुमा विहारी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बुधवार से खेले जाने वाले तीसरे टेस्ट में सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभाएंगे। अब तक निचले क्रम में खेलने वाले विहारी के लिए ये भूमिका नई होगी। इस बारे में बात करते हुए चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने आश्वासन दिया कि अगर वो नई जिम्मेदारी में विफल रहते हैं तो उन्हें मध्यक्रम में भी पूरा मौका मिलेगा।

केवल शॉन पोलाक को पीछे छोड़ने के लिए नहीं खेल रहा हूं: डेल स्टेन

केएल राहुल और मुरली विजय के विफल होने के बाद टीम मैनेजमेंट ने डेब्यू कर रहे मयंक अग्रवाल के साथ विहारी को पारी की शुरूआत करने के लिए चुना है। प्रसाद से जब पूछा गया कि क्या ये विहारी के लिए गलत नहीं होगा क्योंकि उन्होंने अभी तक सिर्फ दो टेस्ट खेले हैं और घरेलू प्रथम श्रेणी में भी वो नियमित तौर पर पारी शुरू नहीं करते तो उन्होंने कहा, ‘‘अगले दो टेस्ट में अगर वो सलामी बल्लेबाज की भूमिका में विफल होते हैं तो भी उन्हें मध्यक्रम में पूरा मौका मिलेगा।’’

केएल राहुल- मुरली विजय बाहर, मयंक अग्रवाल को डेब्यू का मौका

घरेलू क्रिकेट में आंध्र के लिए खेलने वाले विहारी को करीब से देखने वाले प्रसाद ने कहा कि उनके पास नई कूकाबूरा गेंद का सामना करने के लिए अच्छी तकनीक है। उन्होंने कहा, ‘‘वो अच्छा है, तकनीकी रूप से हमें लगा की विहारी काबिल है। ऐसे कई मौके रहे है जब टीम की जरूरत के मुताबिक चेतेश्वर पूजारा ने भी पारी की शुरूआत की है। टीम को अभी इसकी जरूरत है और मैं निश्चित रूप से आश्चस्त हूं कि वो सफल होगा। मैं कह सकता हूं कि ये लंबे समय के लिए समाधान नहीं होगा।’’

ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम का ऐलान, वनडे-टी20 में धोनी की वापसी

विहारी की तरह प्रसाद को भी 1999 के दौरे पर ऐसे जिम्मेदारी दी गई थी लेकिन वो ब्रेट ली की तेज गेंदों का सामना नहीं कर सके थे। उन्होंने कहा विहारी को इस मौके का फायदा उठाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे हमेशा लगता है कि वो (1999 के ऑस्ट्रेलिया दौर पर) मेरे लिए मौका था जिस पर मैं खरा नहीं उतर सका। हमें लगता है कि रोहित की तुलना में विहारी ऐसा करने में ज्यादा सक्षम है। हम उसकी तकनीक को लेकर आश्वस्त हैं और भरोसा है कि वो लंबे समय तक भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा रहेगा।

गेंदबाजों के अतिरिक्त समर्थन के लिए मिशेल मार्श को मौका मिला है: टिम पेन

मयंक को भारत ए के लिए नियमित तौर पर अच्छा प्रदर्शन करने का फायदा मिला है तो वहीं पिछले एक साल से लगातार विफल हो रहे राहुल और विजय के भविष्य पर प्रसाद ने कहा कि इस पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘हमने मयंक को इसलिए बुलाया क्योंकि वो अच्छे फार्म में है और उसने भारत-ए सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया। मौजूदा फार्म को देखें तो हम सब जानते हैं कि दोनों सलामी बल्लेबाज उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। यही कारण है कि उन्हें टीम से बाहर किया गया है। ये निराशाजनक है। मुझे लगता है अगली टेस्ट सीरीज सात महीने बाद है ऐसे में निश्चित तौर पर इस पर विचार किया जाएगा।’’