India vs Australia: I am suffering from back ‘niggles’ since 2011, says Virat Kohli
Virat Kohli (File Photo) @ AFP

मेलबर्न टेस्‍ट के दूसरे दिन बल्‍लेबाजी के दौरान भारतीय कप्‍तान विराट कोहली पीठ दर्द से परेशान नजर आए थे। जिसके बाद टीम फीजियो ने उन्‍हें ट्रीटमेंट भी दिया। सिडनी टेस्‍ट से पहले पत्रकारों से बातचीत के दौरान विराट कोहली ने बताया कि उन्‍हें साल 2011 से ही पीठ दर्द की शिकायत है। ‘ये समस्‍या इतनी बड़ी नहीं है जिससे मेरे करियर में रुकावट आए।’

इंग्‍लैंड दौरे पर भी दूसरे टेस्‍ट मैच के दौरान उन्‍हें पीठ दर्द की शिकायत हुई थी। टीम इंडिया लगातार क्रिकेट खेलती है, जिसके कारण खिलाड़ियों को पर्याप्‍त आराम नहीं मिल पाता है। शरीर को आराम देने के लिए ही विराट ने एशिया कप 2018 में हिस्‍सा नहीं लिया था।

पढ़ें:- सिडनी में स्पिनर पर फंसा पेंच, कुलदीप, अश्विन और जडेजा अंतिम 13 में

विराट कोहली ने कहा, “साल 2011 से ही मुझे बैक पेन (पीठ दर्द) की शिकायत है। पिछले कुछ सालों में अपने प्रयासों के कारण ही मैं इसे मैनेज कर पाया हूं। अगर आपकी पीठ में इस तरह की समस्‍या हो तो आप अपनी फिजिकल एक्टिविटी (शारीरिक गतिविधियां) से ही इसे काबू कर सकते हैं।”

पढ़ें:- बॉर्डर-गावस्‍कर ट्रॉफी की क्‍लोजिंग सेरेमनी से सुनील गावस्‍कर ने बनाई दूरी

विराट ने कहा कि मैं इसे लेकर ज्‍यादा परेशान नहीं हूं। वर्कलोड बढ़ने के कारण जब भी समस्‍या थोड़ी बहुत बढ़ती है तो 2-3 दिन में ठीक हो जाती है। “ये मेरे लिए बड़ा मुद्दा नहीं है। आपको खुद ही शारीरिक तौर पर इससे निपटना होगा और चोट से एक कदम आगे रहना होगा। मैं अबतक ऐसा कर पाने में सफल रहा हूं। मुझे विश्‍वास है कि आगे आने वाले समय में इससे निपटने के लिए मुझे और भी कई रास्‍ते मिल जाएंगे।”

विराट ने कहा, “ऐसा संभव नहीं है कि आपके जीवन में ऐसी छोटी-छोटी चीजें नहीं आएंगी। अगर कुछ समस्‍याएं आ भी रही हैं तो वो ठीक है। आपको केवल समस्‍याओं से डील करने की जरूरत है।”