India vs Australia: I don’t need to silent anyone when Playing for India, says Cheteshwar Pujara
Cheteshwar Pujara (File Photo) © AFP

 

बॉक्सिंग डे टेस्‍ट के दूसरे दिन चेतेश्वर पुजारा ने शतकीय पारी खेलकर अपने आलोचकों को करार जवाब दिया। उन्‍होंने एडिलेड टेस्‍ट में भी शानदार शतक जड़कर टीम की डूबती नैया को पार लगाया था। हालांकि पुजारा अपने आलोचकों को कोई जवाब देना नहीं चाहते हैं। साल 2014 में ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर पुजारा का प्रदर्शन काफी खराब रहा था, जिसके लिए उन्‍हें आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ा था।

करियर का 17वां टेस्ट शतक लगाने के बाद गुरुवार को पुजारा ने कहा ,‘‘ मैं जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलता हूं तो मुझे किसी को खामोश करने की जरूरत नहीं है । मुझे बस रन बनाते रहना है और मुझे वही पसंद है । मैं इन चीजों में नहीं पड़ना चाहता। मेरा काम रन बनाना है और वो मैं करता रहूंगा । देश में या विदेश में।’

पढ़ें:- भारत-ऑस्‍ट्रेलिया के बीच बॉक्सिंग डे टेस्‍ट में दूसरे दिन की मैच रिपोर्ट

उन्होंने स्वीकार किया कि एक बार खिलाड़ी रन बनाने लग जाता है तो आलोचक चुप हो जाते हैं । उन्होंने कहा ,‘‘कई बार आपकी आलोचना होती है और आपको उसे स्वीकार करना होता है , लेकिन रन बनाते रहने पर और टीम के जीतने पर सब खुश हो जाते हैं।’’

पढ़ें:- आखिर क्‍यों चेतेश्‍वर पुजारा पुराने बल्‍ले पर ही टेप लगाकर खेले जा रहे हैं?

पुजारा ने कहा ,‘‘ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अनुभव काफी मायने रखता है । 2014 मेरा पहला ऑस्ट्रेलिया दौरा था और शुरूआत अच्छी रही थी । ब्रिसबेन में मैने अर्धशतक जमाया । मैं 30 या 40 रन में आउट हो रहा था । ऐसा नहीं है कि मैं खेल ही नहीं पा रहा था।’’

उन्होंने कहा ,‘‘मैने उस दौरे पर बहुत रन नहीं बनाये । मैं गलतियों से सबक लेता हूं। मुझे पता है कि इन मैचों में क्या चाहिये । उस दौरे से मुझे अब ऑस्‍ट्रेलिया में रन बनाने में मदद मिली।’’