© AFP
© AFP

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता वनडे में भले ही मैन ऑफ द मैच विराट कोहली को चुना गया और कुलदीप यादव की हैट्रिक को सलाम किया गया लेकिन तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने भी भारत की जीत में बड़ी भूमिका अदा की। भुवनेश्वर ने अपनी स्विंग और रफ्तार से ऑस्ट्रेलिया के तीन खिलाड़ियों को आउट किया और इसके लिए उन्होंने महज 9 रन खर्चे। अपनी इस जबर्दस्त गेंदबाजी पर भुवनेश्वर कुमार ने खुलासा किया कि उन्होंने अपनी गेंदों की रफ्तार बढ़ाई है और स्विंग पर और ज्यादा ध्यान दिया है।

भुवनेश्वर कुमार ने कहा, ” करियर की शुरुआत में मैं हालात और विकेट पर निर्भर था, लेकिन जब आप इंटरनेशनल क्रिकेट खेलते हैं, तो आपको पता चलता है कि आपको कहां सुधार करने की जरूरत है। अपना डेब्यू करने के एक साल बाद मैंने अपनी पेस बढ़ाने की बात सोची लेकिन मुझे पता नहीं था कि मैं ये कैसे करूं। आमतौर पर ये कहा जाता है कि ट्रेनिंग और फिटनेस में काम करने से पेस को बढ़ाने में मदद मिलती है। जब हमारे नए फिजियो आए, मैंने उनके साथ ट्रेनिंग की और मेरी गेंद की रफ्तार बढ़ गई। जब मेरी पेस बढ़ गई, तो मुझे पता चला कि मुझे ज्यादा चीजों पर ध्यान देने की जरूरत नहीं है बस स्विंग पर ध्यान लगाने की जरूरत है।’

भुवनेश्वर सिर्फ अपने गेंद से ही नहीं बल्कि बल्ले से भी जबर्दस्त योगदान दे रहे हैं। चेन्नई वनडे के बाद कोलकाता में भी भुवननेश्वर ने अहम पारी खेली। लोअप ऑर्डर में टीम इंडिया की बल्लेबाजी की धुरी भुवनेश्वर कुमार ही हैं। अपनी बल्लेबाजी के बारे में बातचीत करते हुए भुवनेश्वर ने कोलकाता वनडे के बाद कहा, “मैंने बिल्कुल भी अतिरिक्त प्रयास नहीं किया। ये ऐसा है कि मेरे पास बैटिंग करने का स्वभाविक टैलेंट हैं। खासतौर पर टेस्ट में, मैं योगदान दे सकता हूं। लेकिन जब बात वनडे की आती है तो जिस नंबर पर मैं बैटिंग करता हूं, 8 या 9, तो मुझे तेजी से रन बनाने होते हैं, जिसको मैं स्वीकार करता हूं कि मुझमे तेजी से रन बनाने की काबिलियत नहीं है। बहरहाल, पिछले 3-4 मैचों में, मुझे 10-25 ओवर खेलने का मौका मिला।” [ये भी पढ़ें: हैट्रिक लेने से पहले एमएस धोनी ने कुलदीप यादव से कही थी ये बात]

भुवनेश्वर ने अपनी अच्छी बल्लेबाजी का श्रेय पल्लेकेले वनडे को दिया। उन्होंने कहा, “खासतौर पर श्रीलंका के खिलाफ खेली गई पारी ने मेरा बहुत विश्वास बढ़ाया। इसने मुझे भरोसा दिलाया कि हां मैं बैट से वनडे क्रिकेट में भी योगदान दे सकता हूं।’ अब तक मौजूदा सीरीज में भुवनेश्वर ने 20 और 32* रनों की पारी खेली है। जिसकी मदद से दोनों मैचों में टीम इंडिया ने चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया है।