© Getty Images
© Getty Images

नागपुर। ऑस्ट्रेलिया के विकेटकीपर-बल्लेबाज मैथ्यू वेड का कहना है कि टीम का नियमित सदस्य बनने के लिए उन्हें अपनी बल्लेबाजी में सुधार करने की जरूरत है। वेड को इंदौर में खेले गए तीसरे वनडे मैच में अंतिम एकादश में जगह नहीं मिली थी। उनकी जगह पीटर हैंड्सकॉम्ब ने विकेटकीपर की जिम्मेदारी संभाली थी। 1-3 से पहले ही सीरीज हार चुकी ऑस्ट्रेलिया रविवार को पांचवें और आखिरी वनडे मैच में यहां भारत के सामने उतरेगी। मैच से पहले संवाददाता सम्मेलन में वेड ने कहा, “चयनकर्ताओं ने मुझसे अभी तक नहीं कहा है कि उन्हें मेरी विकेटकीपिंग से कोई परेशानी है।”

उन्होंने कहा, “इसका विकेटकीपिंग से कोई लेना-देना नहीं है। मुझे बस रन करने की जरूरत है। बल्ले से मेरा प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है।” वेड ने कहा, “चयनकर्ताओं ने मुझसे यही कहा है कि मुझे रन करने की जरूरत है। इसलिए मुझे इस पर ध्यान देने की जरूरत है।” बांग्लादेश में खेले गए पहले टेस्ट मैच में वेड की विकेटकीपिंग की भी आलोचना हुई थी। उन्होंने इस मैच में कुल 30 रन बाय के दिए थे।

बांग्लादेश में अपने प्रदर्शन पर वेड ने कहा, “मेरा मानना है कि मैंने अच्छी कीपिंग की थी। मैं जानता हूं कि पहले टेस्ट मैच में बाय के रन देने पर काफी बातें हुई थीं। लेकिन आपको उनके कीपर को भी देखना होगा, जो उन हालात में हमेशा खेलता है और ऐसी स्थिति में हम दोनों का प्रदर्शन समान ही था।” उन्होंने कहा, “मैंने कुछ अच्छे मौके बनाए खासकर दूसरे टेस्ट मैच में। मैंने यहां भी अच्छी कीपिंग की है। मैंने यहा फरवरी-मार्च में खेली गई टेस्ट सीरीज में भी अच्छी कीपिंग की थी।”  [ये भी पढ़ें: नागपुर वनडे (प्रिव्यू): जीत की राह में लौटने को बेताब टीम इंडिया]

वेड को पीटर नेविल की जगह पिछले ग्रीष्मकालीन सत्र में टीम में शामिल किया गया था। जब से उन्होंने 10 टेस्ट मैच खेले हैं, जिनमें उनका औसत 10 का रहा है। वेड के मुताबिक, “मैं काफी मेहनत कर रहा हूं। लेकिन अभी तक मेरे पक्ष में चीजें हुई नही हैं। कई बातें उठी हैं कि मैंने बांग्लादेश में टेस्ट सीरीज में अच्छी बल्लेबाजी नहीं की और यहां भी वनडे सीरीज में विफल रहा। इससे पहले मैंने भारत में ही टेस्ट सीरीज खेली थी और अच्छा प्रदर्शन किया था।” उन्होंने कहा, “इसलिए यह घबराने की स्थिति नहीं है सिर्फ कड़ी मेहनत करने की जरूरत है।”