भारतीय टीम  © IANS (File Photo)
भारतीय टीम © IANS (File Photo)

लंबे समय से चोटिल चल रहे मोहम्मद शमी को उम्मीद है कि वह तीसरे टेस्ट तक भारतीय टीम में वापसी कर लेंगे। घुटने की चोट से उबरने की जद्दोजहद में जुटे शमी सोमवार को विजय हजारे ट्रॉफी में बंगाल की तरफ से खलते नजर आएंगे। अगर विजय हजारे में ट्रॉफी में शमी को लगता है कि वह पूरी तरह से फिट हैं तो वह तीसरे टेस्ट में भारत की तेज गेंदबाजी की कमान संभालते नजर आ सकते हैं। शमी काफी दिनों से चोट के कारण टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं।

शमी ने कहा, ”मैं तीसरे टेस्ट में भारतीय टीम में वापसी करने के लिए काफी उत्सुक हूं। मैं अपनी फिटनेस को परखना चाहता हूं और इसिलिए मैं यहां पर हूं। साथ ही मेरे पास मौका है कि मैं इस सत्र में पहली बार अपने राज्य की तरफ से खेल सकूं। मैं अब पूरी तरह से अच्छा महसूस कर रहा हूं। लेकिन जब आप चोट के बाद पहला मैच खेलते हैं, तो थोड़ा बेचैन रहते हैं। इसलिए मैं देखना चाहता हूं कि मैं मैच के दौरान कैसा महसूस करता हूं, क्या मैं अपना शत-प्रतिशत दे पाऊंगा। मैंने पिछले हफ्ते एनसीए में भारतीय टीम के साथ अभ्यास किया था। मैंने उस दौरान कोच अनिल कुंबले से भी बातचीत की थी और वह मेरी फिटनेस से संतुष्ट दिख रहे थे। लेकिन उन्होंने मुझसे कहा था कि तभी वापसी करना जब तुम्हारा शरीर टेस्ट के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाए।” भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, दूसरे टेस्ट का लाइव स्कोरकार्ड पढ़ने के लिए क्लिक करें…

आपको बता दें कि शमी भारत के लिए आखिरी बार पिछले साल इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट में मोहाली में खेले थे। लेकिन उसके बाद वह चोटिल होने के कारण वह टीम से बाहर हो गए थे। शमी ने कहा, ”अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तेज गेंदबाजों के कंधों पर स्पिन गेंदबाजों के मुकाबले ज्यादा जिम्मेदारी होती है। मैंने अब हालातों से निपटना सीख लिया है। चोट मुझे और मजबूत बनाती है और मुझे और अच्छा करने के लिए प्रेरित करती है। मुझे पता है कि मैं टीम में इसलिए हूं क्योंकि मुझ पर कुछ जिम्मेदारियां हैं। अब जब भी मैं मैदान पर वापसी करूंगा, मैं फिर से अपना शत-प्रतिशत दूंगा।” आपको बता दें कि शमी के चोटिल होने के बाद भारतीय टीम में उनके स्थान पर ईशांत शर्मा को खिलाया जा रहा है, लेकिन वह अब तक अपना प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे हैं।