मुंबई के वानखेड़े स्‍टेडियम में खेले गए वनडे मुकाबले में भारत को 10 विकेट से करारी हार का सामना जरूर करना पड़ा हो, लेकिन यह मैच मैदान पर भारत के लचर प्रदर्शन की जगह देश में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) को लेकर विरोध के कारण चर्चा में आ गया. स्‍टेडियम में कुछ युवक एनआरसी और सीएए के विरोध वाली टीशर्ट पहनकर प्रदर्शन करते नजर आए. बाद में उन्‍हें सुरक्षा बलों ने वहां से हटाया.

पढ़ें:- वार्नर बने AUS के लिए सबसे तेजी से 5 हजार रन बनाने वाले बल्‍लेबाज, विराट को…

सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में स्टेडियम में मौजूद सुरक्षा गार्ड इन प्रशंसकों से कथित तौर पर बात करते नजर आए. कुछ लोगों ने आरोप लगाया कि गार्ड ने प्रशंसकों को ऐसे कपड़े पहनने की अनुमति नहीं दी जो काले रंग के थे.

पत्रकार राहुल देसाई ने ट्वीट किया, “मैं आज वानखेड़े स्टेडियम में हूं. काले रंग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है चाहे वह टी शर्ट हो, कैप या कुछ भी क्योंकि यह विरोध का प्रतीक है. कई दर्शकों को कथित तौर पर टी शर्ट और कैप बदलने के लिए मजबूर किया गया और उन्हें गेट पर जब्त कर लिया गया.”

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए), प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के खिलाफ देश में काफी समय से विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

पढ़ें:- IND vs AUS Mumbai ODI : टीम इंडिया की घर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शर्मनाक हार के 5 कारण

बीते कुछ दिनों में विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के कई छात्र इन मुद्दों पर सड़क पर उतर चुके हैं. प्र्दशनकारी सीएए को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. सीएए 10 जनवरी को अधिसूचित किया गया था. यह कानून पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से 31 दिसंबर 2014 तक धार्मिक तौर पर उत्पीड़ित होकर भारत में आए गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्रदान करता है.