India vs Australia: Pitch Deteriorating faster than anticipated, says Aaron Finch
Aaron Finch (File Photo) @ Getty Image

ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज एरोन फिंच ने कहा कि एमसीसी की पिच उम्मीद से अधिक तेजी से टूट रही है और भारत के पहली पारी में धीमी बल्लेबाजी के बावजूद नतीजा संभव हैं। भारत ने अपनी पहली पारी 443/7 पर घोषित कर दी। इसके जवाब में मेजबान टीम ने दिन का खेल खत्म होने तक बिना विकेट खोए आठ रन बना लिए हैं।

फिंच ने दिन का खेल खत्म होने के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘यह पारंपरिक ऑस्ट्रेलियाई विकेट नहीं है जहां आप पूरे दिन तीन स्लिप और एक गली लगा सकते हो। इसके अलावा गेंद सीम करती है और अच्छा उछाल होता है जैसा हमने पर्थ में देखा। वहां कई कैच विकेट के पीछे लपके गए।’’

पढ़ें:- आखिर क्‍यों चेतेश्‍वर पुजारा पुराने बल्‍ले पर ही टेप लगाकर खेले जा रहे हैं?

फिंच ने कहा, ‘‘इस तरह की पिचों पर आपको अपनी रणनीति को लागू करना होता है और विकेट जैसा भी हो, आपको इतना बेहतर होना चाहिए कि आप सामंजस्य बैठा सको और अपनी योजना में बदलाव करने के अलावा इसे सही तरह से लागू कर सको।’’

पढ़ें:- भारत-ऑस्‍ट्रेलिया के बीच बॉक्सिंग डे टेस्‍ट में दूसरे दिन की मैच रिपोर्ट

चेतेश्वर पुजारा ने शानदार शतक जड़ा जबकि कप्तान विराट कोहली ने 82 रन की पारी खेली जिससे भारत ने दूसरे दिन मैच में अपना पलड़ा भारी रखा। फिंच ने कहा, ‘‘विकेट हमने जितना सोचा था संभवत: उससे अधिक तेजी से टूट रहा है। यहां तक कि आज अंत में गेंद तेजी से निकली, कुछ गेंदों में काफी उछाल था। इसलिए अगर हम अच्छी गेंदबाजी करते हैं और भारत को दबाव में डालते हैं (दूसरी पारी में) तो हम मैच में बने हुए हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि अब भी तीनों नतीजे संभव हैं, शत प्रतिशत, भारत की जीत, ऑस्ट्रेलिया की जीत और ड्राॅ।’’ फिंच ने पहले दो दिन लगभग छह सेशन गेंदबाजी करने के लिए ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी आक्रमण की तारीफ की। उन्होंने विशेषकर तेज गेंदबाज पैट कमिंस की सराहना की जिन्होंने 34 ओवर में 72 रन देकर दो विकेट चटकाए।

पढ़ें:- कोहली ने राहुल द्रविड़ को पछाड़कर अपने नाम की ये बड़ी उपलब्धि

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि पैट कमिंस ने पारी में 34 ओवर गेंदबाजी की और इसके बाद नाइट वाचमैन के रूप में पैड पहनकर तैयार बैठना काफी साहसिक प्रयास है। यह उसकी शानदार फिटनेस को दर्शाता है। उसे संभवत: पहले दो टेस्ट में वो इनाम नहीं मिला जिसका वह हकदार था लेकिन आपने प्रत्येक कोच को यह कहते हुए सुना है कि आप काफी बदतर गेंदबाजी के बावजूद भी काफी विकेट हासिल कर सकते हो।’’

कमिंस ने पहले दिन सलामी बल्लेबाजों मयंक अग्रवाल और हनुमा विहारी को आउट करने के बाद दूसरे दिन शतक जड़ने वाले पुजारा को भी पवेलियन भेजा। फिंच ने कहा कि भारत ने जब दिन का खेल खत्म होने से 25 मिनट पहले पारी घोषित की तो उन्हें बिलकुल भी हैरानी नहीं हुई। उन्होंने कहा, ‘‘कोहली और पुजारा के आउट होने के बाद मुझे लगता है कि उनकी रणनीति में थोड़ा बदलाव आया। उनके 300 रन के आस पास पांच विकेट थे और मुझे लगता है कि वहां हमारे पास मौका था।’’

फिंच ने कहा, ‘उनके मध्यक्रम ने शानदार प्रदर्शन किया। हमारे दो दिन मैदान पर बिताने के बाद उनका पारी घोषित करने का फैसला हैरान करने वाला नहीं था। वे रात को ही हमारे दो विकेट हासिल करना चाहते थे और यह बेहद सकारात्मक है और मुझे लगता है कि उनकी जैसी स्थिति में अधिकांश टीमें ऐसा ही करतीं।’