India vs Australia: This series will decide who bats better, feels Sourav Ganguly
Sourav Ganguly, Virat Kohli (AFP Photo)

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड में खेले जा रहे पहले टेस्ट के नतीजे से पता चलेगा कि किस टीम की बल्लेबाजी बेहतर है। ऐसा कहना है पूर्व दिग्गज सौरव गांगुली का।

पूर्व कप्तान ने टाइम्स ऑफ इंडिया के अपने कॉलम में लिखा, “भारत के शुरुआत करने के लिए एडिलेड बुरा वेन्यू नहीं है। विकेट बल्लेबाजों का मददगार है। हालांकि पिच पर थोड़ी घास होने से भारतीयों को कोई परेशानी नहीं होगी क्योंकि इससे 20 विकेट लेने में मदद मिलेगी। लेकिन एक बार फिर, ये सीरीज इस बात का फैसला करेगी कि कौन बेहतर बल्लेबाजी करता है। अगर सीरीज जीतनी है तो भारतीय टीम चाहेगी कि केवल विराट कोहली ही नहीं बल्कि सभी बल्लेबाजी में योगदान दें। केवल सभी का योगदान खेल को पलड़ सकता है।”

ये भी पढ़ें: Video: उस्मान ख्वाजा को वो शानदार कैच जिसके सामने फेल हुए विराट कोहली

दोनों ही टीमों के पास शानदार गेंदबाज हैं और ये सभी जानते हैं लेकिन जहां मेजबान टीम अपने दो सबसे सफल बल्लेबाजों स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर के बिना खेल रही है, वहीं मेहमान टीम की बल्लेबाजी काफी हद पर कप्तान विराट कोहली पर ही निर्भर है। ऐसे में इस टेस्ट सीरीज में असली परीक्षा दोनों टीमों के बल्लेबाजों की है।

गांगुली ने आगे लिखा, “फेवरेट्स को लेकर काफी चर्चा हो रहा है। मैने कभी भी इस तरह के टैग में विश्वास नहीं किया लेकिन मैने कभी भी किसी मेजबान टीम को घरेलू हालातों में कमजोर भी नहीं समझा है। पिछले 30 साल में दुनिया ने बेहद शानदार ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को देखा है। ऐसा कहा जाएगा कि जो 11 खिलाड़ी खेल रहे हैं, उनके अलावा बाहर बैठे 11 खिलाड़ी भी उसी दर्जे के हैं। हालांकि उस आभा से तुलना करें तो मौजूदा ऑस्ट्रेलिया टीम का बल्लेबाजी पक्ष उतना मजबूत नहीं है। लेकिन सभी को ये याद रखना चाहिए कि ये सभी खिलाड़ी अपने घर पर खेल रहे हैं। वो यहां पर पले-बढ़े हैं और यहां पर भारत और इंग्लैंड से बेहतर खेलेंगे।”

पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज में पीटर हैंड्सकॉम्ब, ट्रेविस हेड और शॉन मार्श पर नजर रखनी होगी। उन्होंने लिखा, “पीटर हैंड्सकॉम्ब, ट्रेविस हेड और शॉन मार्श इन स्थितियों में काफी काम आएंगे। इसलिए ऑस्ट्रेलिया को हल्के में नहीं लेना चाहिए और मुझे यकीन है कि भारत ऐसा करेगा भी नहीं। ऑस्ट्रेलिया का गेंदबाजी अटैक अब भी उतना ही अच्छा है। हर अच्छी टेस्ट टीम के पास अच्छे स्पिनर होते हैं और पैट कमिंस, जोश हेजलवुड, मिशेल स्टार्क के साथ, मुझे ऐसा लगता है कि नाथन लॉयन भी दबाव बना सकता है।”