India vs Australia: Virat Kohli and company will look for second win in Perth Test
Virat Kohli (File Photo) @ Getty Images

अक्‍सर पिच पर अधिक घास देखकर पूर्व में भारत की अधिकतर टीमें चिंतित हो जाती थी लेकिन विराट कोहली की टीम शुक्रवार को जब पर्थ के नए स्टेडियम की तेज और उछाल भरी पिच पर खेलने के लिये उतरेगी तो उसका लक्ष्य ऑस्ट्रेलिया को उसी के जाल में फंसाकर चार मैचों की सीरीज में अपना विजय अभियान बरकरार रखना होगा।

पिच पर हरी घास देखकर भारतीय खेमा चिंतित नहीं हुआ बल्कि वो इसके मौके के रूप में देख रहा था। कप्तान कोहली इसे देखकर रोमांचित हैं। भारत के पास तेज गेंदबाजी में सक्षम आक्रमण है और इसलिए कोहली ने पिच को देखकर कहा, ‘‘हम यहां की जीवंत पिच देखकर चिंतित होने के बजाय रोमांचित हैं।’

क्यूरेटर ब्रेट सिपथोर्प ने उछाल वाली पिच तैयार करने की कोशिश की। ऑस्ट्रेलिया का यह दांव उस पर उलटा पड़ सकता है। भारत अब इस तरह की पिचों पर खेलने से नहीं घबराता और वह यहां 2-0 से बढ़त हासिल करने के इरादे से उतरेगा। भारत ने एडिलेड में पहला टेस्ट मैच 31 रन से जीता था।

वेस्‍ट ऑस्‍ट्रेलिया क्रिकेट एसोसिएशन (WACA) के पुराने मैदान की पिच को हमेशा तेज गेंदबाजों के अनुकूल माना जाता था और यहां नए मैदान पर भी उसी परंपरा को बरकरार रखने का प्रयास किया गया है। इस स्टेडियम पर यह पहला टेस्ट मैच होगा। पिच पर घास होने से दोनों टीमों को निश्चित तौर पर अपनी रणनीति बदलनी होगी।

पढ़ें:- पर्थ टेस्ट में भुवनेश्वर कुमार की प्लेइंग इलेवन में हो सकती है वापसी

भारत को हर हाल में अपनी अंतिम एकादश में बदलाव करना होगा क्योंकि उसके दो खिलाड़ी चोटिल होने के कारण बाहर हो गये हैं। भारत ने दूसरे टेस्ट मैच के लिए 13 सदस्यीय टीम का चयन किया जिसमें आर. अश्विन और रोहित शर्मा नहीं हैं। अश्विन पेट की मांसपेशियों में खिंचाव और रोहित पीठ दर्द के कारण बाहर हुए हैं।

रोहित दूसरे टेस्ट मैच से पूर्व दोनों दिन अभ्यास सत्र में भाग नहीं ले पाये थे। अश्विन ने भी बुधवार को वैकल्पिक अभ्यास में हिस्सा नहीं लिया। वो गुरूवार को वार्मअप के दौरान उपस्थित थे लेकिन उन्होंने नेट्स पर बल्लेबाजी या गेंदबाजी नहीं की।

इस बीच पृथ्वी शॉ चोट के कारण इस मैच में नहीं खेल पाएंगे और इस तरह से केएल राहुल और मुरली विजय को ही पारी का आगाज करना होगा। अंतिम एकादश में अन्य दो स्थान के लिये हनुमा विहारी, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव को 13 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया है। इससे विभिन्न संयोजन की संभावनाएं बन गयी है। वैसे कोहली का इससे पहले भी केवल तेज गेंदबाजों के साथ उतरने का रिकॉर्ड रहा है।

पढ़ें:  पृथ्वी शॉ के बाद रोहित शर्मा और आर अश्विन भी हुए चोटिल

भारत 2012 में भी पर्थ में केवल तेज गेंदबाजों के साथ उतरा था। तब महेंद्र सिंह धोनी ने जहीर खान, उमेश यादव, इशांत शर्मा और आर विनय कुमार को WACA मैदान पर आजमाया था। वीरेंद्र सहवाग ने अपनी ऑफ स्पिन से 7.2 ओवर किये थे और कोहली भी ऐसा ही कुछ कर सकते हैं।

रोहित के चोटिल होने से विहारी का दूसरे टेस्ट मैच में खेलना तय लग रहा था। उन्होंने ओवल में पदार्पण किया था। उन्‍होंने मैच की दूसरी पारी में 56 रन बनाये थे। विहारी अच्छे ऑफ स्पिनर भी हैं और टीम प्रबंधन उनका इस रूप में उपयोग करने से नहीं हिचकिचाएगा। ओवल में उन्होंने 10.3 ओवर किये थे।

सिडनी में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया एकादश के खिलाफ अभ्यास मैच के दौरान भी विहारी ने 12 ओवर किये थे। विजय भी कुछ ओवर कर सकते हैं और ऐसे में भारतीय थिंक टैंक चोटिल अश्विन की जगह भुवनेश्वर कुमार को रखकर चार तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकता है।

हाल के रिकॉर्ड पर गौर करें तो पश्चिम ऑस्ट्रेलिया ने न्यू साउथ वेल्स के खिलाफ नवंबर में यहा शेफील्‍ड शील्ड मैच खेला था। उस मैच में जो 40 विकेट गिरे उनमें से आठ विकेट स्पिनरों ने लिये थे। इनमें से सात विकेट अकेले नाथन लियोन ने हासिल किये थे।

जाहिर है कि ऑफ स्पिनर लियोन ने यहां से मिल रही उछाल का फायदा उठाया था। अगर अश्विन फिट होते तो कोहली उनको टीम में रखने के बारे में सोच सकते थे। जडेजा टीम में हैं और उनके पास स्पिनर को रखने का विकल्प है लेकिन इसकी संभावना थोड़ी कम हो गयी है।

भारतीय बल्लेबाजी क्रम में हालांकि खास बदलाव नहीं होगा। एडिलेड में गेंदबाजी करने वाले तीनों भारतीय तेज गेंदबाजों ने गुरुवार को अभ्यास सत्र में गेंदबाजी नहीं की। उन्होंने बल्लेबाजी का अभ्यास किया।

ऑस्ट्रेलिया अपनी बल्लेबाजी लाइनअप में रणनीतिक बदलाव कर सकता है। एरोन फिंच को पहले टेस्ट की नाकामी के कारण आलोचना झेलनी पड़ रही है। बुधवार के अभ्यास सत्र को देखने के बाद लग रहा है कि उस्मान ख्वाजा या शॉन मार्श में से कोई एक पारी की शुरुआत करने उतर सकता है और फिंच को मध्यक्रम में उतारा जा सकता है।

आलराउंडर मिशेल मार्श के इस मैच में खेलने की थोड़ी सी संभावना बची है क्योंकि कप्तान टिम पेन ने खुद को फिट घोषित किया है। एडिलेड में उनके दायें हाथ में चोट लग गयी थी। ऑस्ट्रेलिया उसी गेंदबाजी आक्रमण के साथ उतर सकता है। पीटर सिडल अंतिम एकादश में जगह बनाने की दौड़ में नहीं हैं।

भारत (अंतिम 13) : विराट कोहली (कप्तान), मुरली विजय, केएल राहुल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, हनुमा विहारी, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव।

ऑस्ट्रेलिया (संभावित एकादश) : टिम पेन (कप्तान एवं विकेटकीपर), मार्कस हैरिस, एरोन फिंच, उस्मान ख्‍वाजा, ट्रैविस हेड, शॉन मार्श, पीटर हैंड्सकोब, नाथन लियोन, मिशेल स्टार्क, पैट कमिन्स, जोश हैज़लवुड।