India vs Australia: Virat Kohli believes Cheteshwar Pujara is as intense in the mind as him
Cheteshwar Pujara with Virat Kohl (File Photo) @ AFP

टीम इंडिया ने टेस्‍ट सीरीज को 2-1 से अपने नाम कर ऑस्‍ट्रेलिया में इतिहास रच दिया। भारत की जीत में चेतेश्‍वर पुजारा ने तीन शतक जड़कर अहम भूमिका निभाई। फील्‍ड पर बेहद शांत नजर आने वाले चेतेश्‍वर पुजारा को प्‍लेयर ऑफ द सीरीज भी दी गई। विराट कोहली का मानना है कि चेतेश्‍वर पुजारा भी उनकी तरह ही गंभीर खिलाड़ी हैं।

बीसीसीआई टीवी से बातचीत के दौरान विराट कोहली ने कहा, “इंटेंसिटी (गंभीरता व तीव्रता) का मतलब सभी खिलाड़ियों के लिए अलग-अलग हो सकता है। पुजारा भी दिमाग से उतने ही इंटेंस रहते हैं जितना मैं हूं। वो लोगों को अपनी तीव्रता दिखाते नहीं है, हमारे बीच बस यही अंतर है। ये ही उसका व्‍यक्तित्‍व है। अजिंक्‍य रहाणे इसे नहीं दिखाते हैं क्‍योंकि ये उनका व्‍यक्तित्‍व है। मोहम्‍मद शमी नहीं दिखाता है क्‍यों शायद ये उसका तरीका है। जसप्रीत बुमराह में आप थोड़ी गंभीरता देखेंगे। इशांत में शायद बुमराह से थोड़ी सी ज्‍यादा गंभरता है।

विराट कोहली ने कहा, “सभी खिलाड़ी दिमाग से इंटेंस हैं। हमारा टीम कल्‍चर यही है कि हम किसी एक व्‍यक्ति की परफॉर्मेंस पर ध्‍यान नहीं देते हुए बतौर टीम प्रदर्शन करते हैं। आप जब एक टीम के तौर पर जीतते हैं तो सभी आपको टीम के तौर पर ही याद रखते हैं।”

विराट कोहली ने कहा “हर खिलाड़ी में कोई न कोई खास क्‍वालिटी है। रविंद्र जडेजा बेहद तेज दौड़ते हैं। मैं ये नहीं कहता कि सभी को जडेजा की तरह ही भागना होगा, लेकिन वो इतनी तेज क्‍यों भाग रहे हैं। वो ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्‍योंकि उसका माइंडसेट एकदम सही है। वो टीम के लिए एक रन बचाना चाहता है। मुझे लगता है कि जब तक आपका माइंडसेट सही है। हर खिलाड़ी को अपना 100 प्रतिशत देना चाहिए। पूरी टीम ऐसा अच्‍छे से कर पाई है।”

पढ़ें:अभूतपूर्व बल्लेबाज हैं रोहित शर्मा: सौरव गांगुली

विराट ने आगे कहा, “मैं वो बात नहीं कहता हूं जो मैं खुद नहीं कर सकता। ये मेरे व्‍यक्तित्‍व का हिस्‍सा नहीं है। मैं टीम के खिलाड़ियों से काफी बात करता हूं। मेरा मानना है कि जब आपकी असली भावनाएं बाहर आती हैं तो आप वो खास चीजें कर पाते हैं जिसके बारे में आपने सोचा भी नहीं होता।”