विराट कोहली ने 92 रनों की पारी खेली  © AFP
विराट कोहली ने 92 रनों की पारी खेली © AFP

टीम इंडिया टेस्ट में नंबर 1 है और अब वनडे में करीब-करीब दक्षिण अफ्रीका के साथ पहले नंबर पर है। दोनों टीमों के 119-119 अंक हैं लेकिन दक्षिण अफ्रीका कुछ दशमलव के अंकों से आगे है। अगर टीम इंडिया अगला मैच जीतने में कामयाब हो जाती है तो वह जरूर डु प्लेसी की टीम को अपदस्थ करते हुए नंबर 1 बन जाएगी। टीम इंडिया अगर आज टॉप पर बनी हुई है तो उसका सबसे ज्यादा श्रेय कप्तान विराट कोहली को जाता है।

दूसरे वनडे में उनकी 92 रनों की पारी की बदौलत टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत दर्ज की। इसके साथ ही टीम इंडिया ने 5 मैचों की वनडे सीरीज में 2-0 से बढ़त बना ली है। उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया जो सही निर्णय था क्योंकि दोनों ही टीमें कोलकाता की दोहरी पेस वाली पिच पर रन बनाने में खासी कठिनाई महसूस कर रही थीं।

कोहली ने मैच के बाद कहा, “पहली इनिंग के ब्रेक के बाद हमने नहीं सोचा था कि हमने पर्याप्त स्कोर बनाया है। लेकिन हमें पता था कि अगर हमारी शुरुआत अच्छी हुई तो हमारे पास स्कोर को बचाने का अच्छा मौका होगा।”

अजिंक्य रहाणे के साथ कोहली ने दूसरे विकेट के लिए 102 रन जोड़े। ऐसे में लगा कि टीम इंडिया 300 के करीब पहुंच सकती है। हालांकि, इनिंग के आखिरी क्षणों में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने मैच में पकड़ बना ली और टीम इंडिया को 252 रनों पर ऑलआउट कर दिया। [ये भी पढ़ें: हैट्रिक लेने से पहले एमएस धोनी ने कुलदीप यादव से कही थी ये बात]

कोहली ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो वह विकेट पूरे दिन बल्लेबाजी करने के लिए आसान नहीं था।”

भुवनेश्वर कुमार ने मैच में नई गेंद के साथ शानदार गेंदबाजी की और उन्होंने पहला स्पैल 6-2-9-2 के साथ खत्म किया। उन्होंने दोनों ओपनरों डेविड वॉर्नर और हिल्टन कार्टराइट को आउट किया। कोहली ने कहा, “हमे पता था कि अगर हम विकेट नहीं लेंगे तो कठिन होगा। भुवी का स्पैल और ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया क्योंकि हमे पता था कि रिस्ट स्पिनर बीच के ओवरों में तबाही मचाएंगे। जिन गेंदों पर भुवी ने बल्लेबाजों को आउट किया उन्हें खेलना नामुमकिन था। ब्रेकथ्रू लेने के लिए आप भुवी का नाम को दिमाग में रख सकते हो।”

जब तेज गेंदबाजों ने गेंदबाजी खत्म की तो दोनों रिस्ट स्पिनरों ने जिम्मेदारी ली। चहल ने 34 रन देकर 2 विकेट झटके तो कुलदीप यादव ने हैट्रिक ले डाली। वह भारत की ओर से वनडे में हैट्रिक लेने वाले तीसरे गेंदबाज बने।

कोहली ने कहा, “दोनों युवा स्पिनर दिल लगाकर गेंदबाजी कर रहे थे, यह बताता है कि वे कितने बेहतरीन हैं। अगले कुछ सालों में वर्ल्ड कप है ऐसे में यह हमारे लिए अच्छा संकेत है कि कैसे टीम आकार ले रही है। टीम में गेंदबाजी और बल्लेबाजी का अच्छा संतुलन है। हम जानते हैं कि वे भविष्य के मैचों में भी हमारे लिए अच्छा प्रदर्शन करेंगे। इसके कारण जो 20 से 25 खिलाड़ी हमारे पास हैं उनके बीच कंपटीशन चलता रहता है।”

कोलकाता में मैच के दौरान खासी गर्मी और उमस थी जिसके कारण दोनों टीमों के खिलाड़ियों को जूझना पड़ा। यहां तक कि विराट कोहली इतने फिट खिलाड़ी को भी चीजों को सही रखने के लिए जूझना पड़ा। लेकिन कोहली ने सभी कठिनाईयों को पीछे छोड़ते हुए बेहतरीन प्रदर्शन किया।

कोहली ने कहा, “मैं अपने लिए हमेशा उस तरह की प्रेरणा ले लेता हूं। कभी कभार चीजें आपके हिसाब से नहीं होती लेकिन मैं एक जोन में रहते हुए कोशिश करता हूं। वहां बैटिंग करना आसान नहीं था। साथ ही गेंदबाजी आक्रमण भी क्वालिटी वाला था। अच्छा प्रदर्शन किया इसलिए अच्छा लग रहा है। चेन्नई में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया इसलिए अच्छा नहीं लगा था।”