रिद्धिमान साहा  © Getty Images
रिद्धिमान साहा © Getty Images

कोलकाता। भारतीय टेस्ट टीम के विकेटकीपर रिद्धिमान साहा ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चल रही टेस्ट श्रृंखला में अब तक खेले गए दो मैचों में दो विश्वस्तरीय कैच लपके। उनके प्रशंसकों के लिए साहा के ये दोनों ही कैच अविस्मरणीय होंगे, लेकिन साहा मानते हैं कि पुणे में हुए पहले टेस्ट मैच के दौरान लिया गया कैच बैंगलुरू में हुए दूसरे टेस्ट मैच के कैच से कहीं अधिक कठिन था। बैंगलुरू टेस्ट में निचले क्रम पर जुझारू बल्लेबाजी के बल पर भारत को अहम बढ़त दिलाने वाले साहा का कहना है कि पुणे में लिए गए कैच में रिएक्शन टाइम बहुत कम था। साहा ने पुणे टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज मैथ्यू वेड के बल्ले का किनारा छूकर पीछे आई गेंद को दाहिनी ओर डाइव लगाते हुए लपका था।

शनिवार को साहा के नाम से विकेटकीपिंग ग्लव्स को लांच किया गया। साहा ने लांचिंग कार्यक्रम से इतर पत्रकारों से कहा, “पुणे का कैच बेंगलुरू से कहीं अधिक कठिन था। पुणे वाले कैच में रिएक्शन टाइम कम था और गेंदबाजी तेज गेंदबाज उमेश यादव कर रहे थे।” वहीं बेंगलुरू टेस्ट में साहा ने स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन की गेंद पर आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव ओकीफ का कैच आगे की ओर डाइव लगाकर लपका था।[ये भी पढ़ें: रविचंद्रन अश्विन के खिलाफ शॉट खेलना जारी रखूंगा: डेविड वार्नर]

साहा ने कहा, “पुणे वाला कैच लेने के बाद कप्तान कोहली ने कहा कि मेरा प्रयास बेहतरीन था। वह उत्साहित थे और पूरी टीम रोमांच से भर चुकी थी।”दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपरों में शुमार आस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट के खिलाफ खेलने की इच्छा जाहिर करते हुए साहा ने कहा, “मैं आईपीएल में उनके साथ खेल चुका हूं। अगर उनके खिलाफ खेलने का मौका मिले तो यह शानदार अनुभव होगा।”