India vs Australia:Travis Head seeks Harry Nielsen’s advice to counter Ravichandran Ashwin
R-ashwin © IANS

ऑस्‍ट्रेलिया के बाएं हाथ के बल्लेबाज ट्रेविड हेड  6 दिसंबर से शुरू हो रहे पहले क्रिकेट टेस्ट में ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन से निपटने के लिए अपनी टीम के जूनियर साथी हैरी नील्सन की मदद लेंगे।

हेड की तरह ही बाएं हाथ के बल्लेबाज दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के नील्‍सन (100 रन) ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया एकादश और भारत के बीच अभ्यास मैच के दौरान अश्विन (122/2) का सामना काफी अच्छी तरह किया और शतक जड़ा।

हेड ने कहा, ‘हैरी नील्सन ने अभ्यास मैच में उनका अच्छी तरह सामना किया इसलिए मैं उनसे बात (अश्विन का सामना करने को लेकर) करने को लेकर उत्सुक हूं।’

‘भारत की चुनौती से निपटने में सक्षम हैं ऑस्‍ट्रेलियाई बल्‍लेबाज’

अश्विन को अपने करियर के दौरान बाएं हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ काफी सफलता मिली है और ऑस्ट्रेलिया की अंतिम एकादश में कम से कम चार बाएं हाथ के बल्लेबाजों को जगह मिलने की उम्मीद है। हेड ने हालांकि कहा कि उनके बल्लेबाज भारत की चुनौती से निपटने में सक्षम हैं।

उन्होंने कहा, ‘इससे पहले आईपीएल में मैंने अश्विन का सामना किया है लेकिन टेस्ट क्रिकेट में उनके खिलाफ खेलने का अधिक अनुभव नहीं है। लेकिन हमारे पास ऐसे बल्लेबाज हैं जो स्पिन को अच्छी तरह खेल सकते हैं।’

हेड ने कहा, ‘देखिए, ये सिर्फ एक स्पिनर की बात नहीं है। अगर हम छह दाएं हाथ के बल्लेबाजों के साथ खेलते हैं तो वे रविंद्र जडेजा को खिलाएंगे जो अच्छा गेंदबाज हैं। मुझे लगता है कि यह अच्छा मुकाबला होगा।’

‘कोहली पर दबाव बनाने में सफल रहेंगे ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज’

हेड का मानना है कि ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज भारतीय कप्तान विराट कोहली पर दबाव बनाने में सफल रहेंगे जो पहले भी दो बार ऑस्ट्रेलिया का दौरा कर चुके हैं और इस दौरान एडिलेड में तीन शतक सहित कुल पांच शतक जड़ चुके हैं।

उन्होंने कहा, ‘मुझे उन्‍हें गेंदबाजी नहीं करनी इसलिए मुझे उनकी कमजोरी ढूंढने की जरूरत नहीं है। लेकिन मुझे लगता है कि स्थिति हमारे गेंदबाजों के नियंत्रण में होगी।’

बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा, ‘हमारे तीन तेज गेंदबाजों का सामना करना आसान नहीं है। आखिर वह भी इंसान है और अगर हम उस पर पर्याप्त दबाव बनाने में सफल रहे तो यह काम कर सकता है।’

हेड ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया की टीम अपने शब्दों की जगह अपने काम में आक्रामकता लाने की कोशिश करेगी।

उन्होंने कहा, ‘मैंने काफी टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला है। वनडे मैचों में बाउंड्री पर क्षेत्ररक्षण करते हुए यह आसान नहीं होता कि आप कुछ बोलें। लेकिन मुझे यकीन है कि हम प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलने का प्रयास करेंगे और आक्रामक होने की कोशिश करेंगे। शब्द हल्के होते हैं। यह सब आपके काम में झलकना चाहिए।’

पाकिस्तान के खिलाफ यूएई में दो टेस्ट खेलने वाले हेड को उम्मीद है कि उन्हें आगामी सीरीज में खेलने का मौका मिलेगा क्योंकि स्मिथ और वार्नर की गैरमौजूदगी में टीम का बल्लेबाजी क्रम अब तक स्थिर नहीं हो पाया है।

(इनपुट-एजेंसी)