India vs Bangladesh: Rohit Sharma wants bowlers to learn from mistakes
रोहित शर्मा (IANS)

भारत के कार्यवाहक कप्तान रोहित शर्मा ने टी20 विश्व कप से पहले अपने गेंदबाजों को आगाह किया है कि अगर टीम को अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करना है तो उसे छोटे स्कोर का बचाव करना सीखना होगा।

भारत ने पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय में बांग्लादेश को 149 रन का लक्ष्य दिया था और रोहित के अनुसार परिस्थितियों को देखते हुए इसका बचाव किया जा सकता था लेकिन मैदान पर की गई कुछ गलतियों के कारण टीम को अपने इस प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ पहली बार हार का सामना करना पड़ा।

रोहित ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “इस स्कोर का बचाव किया जा सकता था लेकिन हमने फील्डिंग के दौरान गलतियां की। हमारे खिलाड़ी थोड़ा अनुभवहीन है और वो इससे सबक लेंगे। शायद अगली बार वो ये गलतियां न करें।”

पहले बल्लेबाजी करते हुए बड़ा स्कोर नहीं बनाना और फिर अपने अपेक्षाकृत छोटे स्कोर का बचाव नहीं कर पाना भारतीय टीम की कमजोरी बनती जा रही है। भारत जिन पिछले सात टी20 में स्कोर का बचाव करने उतरा उनमें से पांच में उसे नाकामी हाथ लगी। भारत इस मैच में दो तेज गेंदबाजों दीपक चाहर और खलील अहमद तथा तीन स्पिनरों युजवेंद्र चहल, क्रुणाल पांड्या और वाशिंगटन सुंदर के साथ उतरा था। चहल को छोड़कर कोई भी अन्य गेंदबाज बल्लेबाजों पर दबाव नहीं बना पाया।

दिल्ली T20I में हार के बाद ट्रोल हुए रिषभ पंत; फैंस को आई धोनी की याद

रोहित ने कहा, “ये खिलाड़ी पिछले कुछ समय से हमारे लिए इस फॉर्मेट में खेल रहे हैं। खलील हैं और दीपक भी हैं। शार्दुल (ठाकुर) अपनी बारी का इंतजार कर रहा है। वो अच्छा प्रयास कर रहे हैं लेकिन उन्हें सीखना होगा कि स्कोर का बचाव कैसे करना है। उन्हें रणनीति के अनुसार गेंदबाजी करनी होगी। इस तरह के मैच में खेलने से उन्हें सीख मिलेगी। वे प्रतिभाशाली हैं। उनमें वापसी करने की क्षमता है। ये समय बताएगा कि वे ऐसा कर पाते हैं या नहीं।”

रोहित हालांकि टीम में वापसी करने वाले लेग स्पिनर चहल के प्रदर्शन से खुश दिखे जिन्हें उन्होंने बीच के ओवरों के लिए महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा, “चहल इस टीम के लिए अहम खिलाड़ी हैं और उसने दिखाया कि बीच के ओवरों में जब बल्लेबाज जमे हुए थे तब वो कितना महत्वपूर्ण है। वो अच्छी तरह से समझता है कि उसे क्या करना है और इससे कप्तान के लिए भी काम थोड़ा आसान हो जाता है।”

भारतीय कप्तान ने इसके साथ ही स्वीकार किया कि बल्लेबाजी में अच्छी शुरुआत नहीं मिलने से टीम पर दबाव बना। भारत ने पहले ओवर में ही रोहित का विकेट गंवा दिया था जबकि शिखर धवन और रिषभ पंत रन बनाने के लिए जूझते रहे। केएल राहुल और श्रेयस अय्यर अपनी पारी लंबी नहीं खींच पाए।

राशिद खान का कहना, अफगानिस्तान के लिए हर सीरीज अहम

रोहित ने कहा, “हमने शुरुआती ओवर में ही विकेट गंवा दिया था जिसके बाद पारी संवारना आसान नहीं होता है। पिच नरम थी और इस पर शॉट मारना आसान नहीं था। हमने फैसला किया था कि अगर हम पहले बल्लेबाजी करते हैं तो हमें 140—150 रन तक पहुंचना होगा क्योंकि हमने पहले भी देखा है कि इस तरह की पिचों पर ऐसे स्कोर का बचाव किया जा सकता है। आज भी हमने 148 रन बनाए और ये अच्छा स्कोर था।”

भारत की फील्डिंग भी अच्छी नहीं रही। पांड्या ने 18वें ओवर में बांग्लादेश की जीत के नायक मुशफिकुर रहीम का आसान कैच छोड़ा जो कि आखिर में काफी महंगा साबित हुआ। इसके अलावा मैदान पर कुछ फैसले भी टीम के खिलाफ गए।

रोहित ने कहा, ‘हमने फील्डिंग के दौरान बेहतर प्रदर्शन नहीं किया। हमने मैदान पर कुछ फैसले अच्छे नहीं किए जो कि हमारे खिलाफ गए और आखिर में उस बल्लेबाज (रहीम) ने अर्धशतक जमाया। फैसला करने में हम यहां पर कमजोर साबित हुए।”

उन्होंने हालांकि बांग्लादेश को जीत का श्रेय दिया। रोहित ने कहा, “बांग्लादेश को जीत का श्रेय जाता है। जब हम बल्लेबाजी कर रहे थे तो उन्होंने शुरू से ही हम पर दबाव बना दिया था।”

मुशफिकुर रहीम की शानदार पारी के दम पर सात विकेट से जीता बांग्‍लादेश

बांग्लादेश की ये टी20 में भारत पर पहली जीत है। इससे पहले आठ मैचों में भारत ने जीत दर्ज की थी लेकिन रोहित ने साफ किया कि वे रिकार्ड पर ध्यान नहीं देते और उन्होंने बांग्लादेश को हल्के से नहीं लिया था। उन्होंने कहा, “मैं ये नहीं कहूंगा कि हमने उन्हें हल्के से लिया था। जब हम मैदान पर उतरते हैं तो रिकार्ड पर गौर नहीं करते। हम उसे एक नए मैच की तरह देखते हैं और उसे जीतना चाहते हैं। हम अपनी रणनीति और कौशल का सही प्रदर्शन करके ऐसा करना चाहते हैं जो हम इस मैच में नहीं कर पाए।”

रोहित ने कहा, “जब हम खेलते हैं तो विरोधी टीम को नहीं देखते। हम अपने काम पर ध्यान केंद्रित करते हैं कि हमें क्या करना है। हमारे लिए ये मायने नहीं रखता कि हम किस टीम के खिलाफ खेल रहे हैं। हम केवल उनकी गेंदबाजी और बल्लेबाजी लाइनअप पर गौर करते हैं लेकिन विरोधी टीम पर बहुत अधिक ध्यान देना अच्छा नहीं होता है।”

नियमित कप्तान विराट कोहली को इस सीरीज के लिए विश्राम दिया गया है और रोहित ने माना कि उनकी जगह भरना आसान नहीं होता है। उन्होंने कहा, ‘निश्चित तौर पर वो बहुत बड़ा खिलाड़ी है। इसमें कोई संदेह नहीं है। जब भी वो नहीं खेल रहा होता है तो उनकी जगह भरना आसान नहीं होता है।”