केदार जाधव  © Getty Images
केदार जाधव © Getty Images

भारत और इंग्लैंड के बीच रविवार को पुणे में खेले जाने वाले मुकाबले में भारतीय टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज केदार जाधव ने 65 गेंदों में शतक जड़ दिया और 351 रनों के चेज में अहम भूमिका निभाई। जाधव को उनकी बेहतरीन 120 रनों की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच दिया गया। लेकिन इसके बावजूद जाधव की पत्नी स्नेहल को जाधव का शतक न देख पाने का जिंदगीभर मलाल रहेगा। इंडिया टुडे में छपी एक खबर के मुताबिक स्नेहल अपने सास- ससुर के साथ महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम गई थीं। लेकिन उनके बेबी ने लगातार रोना शुरू कर दिया। वह चुप ही नहीं हो रहा था इसलिए उन्हें स्टेडियम से घर लौटना पड़ा और इस तरह केदार जाधव का शतक वह नहीं देख पाईं।

वैसे जब केदार ने झन्नाटेदार चौका जड़कर अपना शतक पूरा किया तो उस वक्त उनके माता- पिता स्टेडियम में मौजूद थे। उन्होंने केदार का तालियां बजाकर उत्साहवर्धन किया। शतक जड़ने के बाद केदार के शरीर में क्रैंप्स आने लगे थे। लेकिन इसके बावजूद वह नहीं रुके और आनन- फानन में गेंदबाजों की बखिया उधेड़ दी। अंततः वह 76 गेंदो में 120 रन बनाकर आउट हुए। हालांकि, इन हालातों में उन्हें खेलता देख उनके मां चिंतित दिख रही थीं। केदार की मां ने बाद में कहा कि बेटे को शतक लगाता देख उन्हें खुशी हुई। [ये भी पढ़ें: पुणे वनडे में केदार जाधव की पारी विराट कोहली से भी बेहतर: सौरव गांगुली]

जाधव- कोहली ने तीसरे विकेट के लिए 200 रनों की साझेदारी की। वनडे क्रिकेट इतिहास में यह दूसरा मौका है जब टीम इंडिया की ओर से पांचवें विकेट के लिए 200 रनों की साझेदारी की गई हो। इसके साथ ही जाधव- कोहली की जोड़ी ने एमएस धोनी- रैना की जोड़ी का रिकॉर्ड तोड़ दिया। धोनी रैना ने साल 2015 में जिम्बाब्वे के खिलाफ ऑकलैंड में पांचवें विकेट के लिए 196* रन जोड़े थे।