इंग्लैंड के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट के दौरान अपने करियर का 100वां मैच खेलने के लिए भारतीय टीम के तेज गेंदबाज इशांत शर्मा (Ishant Sharma) का कहना है कि पिंक बॉल सेशन दर सेशन खेल का रुख बदल सकती है चूंकि टीम पहली बार मोटेरा के नए स्टेडियम में खेल रही हैं ऐसे में किसी को नहीं पता है कि ये कैसे बर्ताव करेगी।

क्या भारतीय गेंदबाज सूर्यास्त के समय शॉर्ट गेंद की रणनीति का इस्तेमाल करेंगे, ये पूछे जाने पर इशांत ने कहा, ‘‘एक बार जब हम इस मैदान पर खेलने उतरेंगे तो हमें इस बारे में पता चलेगा क्योंकि इसका नवीनीकरण किया गया है और अभी मैं कुछ नहीं कह सकता। हम कुछ नहीं कह सकते कि किस चीज से बल्लेबाज को परेशानी होगी और किससे नहीं, काफी चीजें हैं जिन्हें हमें परखना होगा, हमें नहीं पता कि हम इन चीजों से कैसे निपटेंगे, ओस भी होगी।’’

इशांत ने कहा, ‘‘यहां विकेट कैसी होगी और वे (इंग्लैंड) कैसे खेलेंगे, बेशक दूधिया रोशनी में गेंद स्विंग करेगी लेकिन आपको ओस से निपटना होगा इसलिए काफी चीजें होंगी और आप सीधे तौर पर नहीं कह सकते कि मैच में किसी पलड़ा भारी होगा, तेज गेंदबाजों का या स्पिनरों का।मुझे लगता है कि एक सेशन में खेल बदल सकता है और प्रत्येक गेंदबाज को सेशन दर सेशन जिम्मेदारी निभानी होगी, क्या पता शुरुआत से ही गेंद टर्न करने लग जाए।’’

इस तेज गेंदबाज ने कहा, ‘‘क्या पता पहले दो सेशन में ही स्पिनरों को मदद मिले लेकिन दूधिया रोशनी में जब ओस होगी तो गेंद स्विंग नहीं करेगी, ये तेजी से आएगी और बल्ले पर आसानी से आएगी। तब स्पिनर मुकाबले में नहीं होंगे, तेज गेंदबाज होंगे इसलिए यह स्थिति पर निर्भर करता है और उस समय गेंद और विकेट कैसा बर्ताव करते हैं।’’