India vs England: Hanuma Vihari is eager to make every opportunity count
Hanuma Vihari © Getty Images

इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी दो टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टेस्ट टीम में चुने गए हनुमा विहारी मौके का फायदा उठाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। बीसीसीआई टीवी को दिए एक बयान में विहारी ने कहा, “भारतीय टीम में आना मुश्किल होता है लेकिन जब आपको टीम में जगह मिल जाती है तो आप हर एक मौके का फायदा उठाना चाहते हैं। मैं इस समय केवल इसी बारे में सोच रहा हूं।”

टीम में जगह बनाने के लिए मेहनत ही अकेला रास्ता

अपने संघर्ष के बारे में बात करते हुए विहारी ने कहा, “दक्षिण अफ्रीका मेरा पहला विदेशी दौरा था, जिससे मैने काफी कुछ सीखने को मिला। मुझे पता था कि इंडिया ए में वापस आने के लिए मुझे घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करना बहुत जरूरी था और भारतीय टीम में आने के इंडिया ए में अच्छा प्रदर्शन करना जरूरी था। इसके अलावा कोई और रास्ता नहीं है।”

वीवीएस लक्ष्मण के साथ समय बिताने का फायदा मिला

हैदराबाद के रहने वाले विहारी भारतीय टीम के दिग्गज राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण को आदर्श मानते हैं। विहारी ने कहा, “वीवीएस लक्ष्मण हैदराबाद से आने वाले हर क्रिकेटर के आदर्श थे। मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे उनके साथ कुछ मैच खेलने का मौका मिला। सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते हुए वो मेरे मेंटोर थे। वहां हम टी20 के बारे में ज्यादा बात करते थे। उन्होंने मुझे अपने स्वाभाविक खेल पर विश्वास रखने की सलाह दी।”

स्ट्राइक रेट नहीं सही मानसिकता है जरूरी

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 59.79 का शानदार औसत रखने वाले विहारी स्ट्राइक रेट को ज्यादा महत्व नहीं देते हैं। उन्होंने कहा, “हालात मेरे लिए ज्यादा मायने रखते हैं, स्ट्राइक रेट नहीं। जब आपके पास अलग अलग स्थिति में अलग मानसिकता से बल्लेबाजी करने की क्षमता है तो आप एक बेहतरीन बल्लेबाज हैं और लगातार रन बना सकते हैं।”

टीम इंडिया में जगह बनाने के लिए छोड़ी हैदराबाद रणजी टीम

करियर की शुरुआत में हैदराबाद के लिए खेलने वाले विहारी बाद में आंध्र प्रदेश के कप्तान बन गए। करियर के इस बड़े फैसले के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, “मुझे पता था कि मैं बड़ा जुआं खेल रहा था। हैदराबाद से आंध्र प्रदेश जाना मुश्किल था क्योंकि नई टीम में आपको पहले से ज्यादा बेहतर प्रदर्शन करना पड़ता है। मैने ये चुनौती ली क्योंकि मैं भारतीय क्रिकेटर बनना चाहता था, केवल रणजी क्रिकेटर नहीं। मेरे मन में भारत के लिए क्रिकेट खेलना का सपना था इसी वजह से मैने ये बदलाव किया। मेरे करियर के उस पड़ाव पर मुझे बदलाव की जरूरत थी। मुझे खुशी है कि मैने ये फैसला लिया।”

क्वाड्रैंगुलर सीरीज से खुलेंगे 2019 विश्व कप के रास्ते

बैंगलोर में चल रही क्वाड्रैंगुलर सीरीज में इंडिया ए के लिए खेल रहे विहारी इसे अहम मानते हैं। उन्होंने कहा, “ये सीरीज सबके लिए अहम हैं। टूर्नामेंट में भारत की दो अच्छी टीमें हैं और ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका की टीमें भी हैं। साथ ही अगले साल विश्व कप आ रहा है, आपको पता है कि आप यहां अच्छा खेलेंगे तो आपको विश्व कप में मौका मिल सकता है। जो हर किसी का सपना है। मैं वैसे ही खेलूंगा जैसा कि अभी तक खेल रहा था। उम्मीद है कि सब ठीक रहे।”