live cricket score, live score, live score cricket, india vs england live, india vs england live score, ind vs england live cricket score, india vs england 1st test match live, india vs england 1st test live, cricket live score, cricket score, cricket, live cricket streaming, live cricket video, live cricket, cricket live rajkot
भारत बनाम इंग्लैंड राजकोट टेस्ट ड्रॉ रहा। © Getty Images

भारत बनाम इंग्लैंड पहला टेस्ट लंबे रोमांच के बाद आखिर ड्रॉ रहा। दोनों टीमों का प्रदर्शन अच्छा रहा और दो पारियों में 500 रन बनें पर मैच बेनतीजा रहा, इससे फैन्स को काफी निराशा हुई। इसमें कहीं न कहीं पिच की खराबी मानी जा रही है पर भारत की हार के पीछे एक और बड़ा कारण है डीआरएस का गलत इस्तेमाल। कप्तान कोहली ने मैच में डीआरएस को सही समय पर प्रयोग नहीं किया। मैच के पांचवें दिन जब पुजारा को आदिल राशिद की गेंद पर एलबीडबल्यू आउट दिया गया तब गेंद लाइन के बाहर जा रही थी अगर रिव्यू लिया जाता तो शायद पुजारा बच सकते थे और भारत यह मैच जीत सकता था। भारत बनाम इंग्लैंड पहले टेस्ट का पूरा स्कोरकार्ड यहां देखें

बीसीसीआई ने काफी समय के बाद इंग्लैंड सीरीज के लिए डीआरएस के इस्तेमाल को वैध किया है लेकिन भारतीय टीम अब भी इसके प्रति कम अनुभवी है। कोहली ने इस मैच में एलेस्टर कुक के लिए एक बार डीआरएस लिया था जब गेंद बल्ले से काफी दूर से जाकर रिद्दिमान साहा के दस्तानों में आई। फैसला कुक के हक में ही गया और भारत का एक मौका खराब हो गया। वहीं जब पुजारा का विकेट गिरा और भारत मुश्किल स्थिति में था तब डीआरएस का इस्तेमाल नहीं किया जबकि पुजारा साफ नॉट आउट थे। हालांकि इसके लिए कोहली को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है क्योंकि वह मैदान पर नहीं थे लेकिन मैदान पर मौजूद मुरली विजय ने भी पुजारा को अंपायर के फैसले पर रिव्यू करने को नहीं कहा। पुजारा के आउट होने के बाद बल्लेबाजी क्रम बिखरता चला गया। कोहली एक छोर पर खड़े रहे पर दूसरे छोर से विकेट लगातार गिरें। वहीं उम्मीद के परे सर जडेजा ने काफी देर तक उनका साथ दिया और भारत पर से हार का खतरा टल गया। लेकिन यह बात अब भी सभी को खटक रही है कि जब रिव्यू नहीं लेना था तब लिया गया और जब लेना था तब नहीं लिया गया। हालांकि कोहली ने यह कहा है कि वह और पूरी टीम डीआरएस के प्रति और सजग होंगे और आगे के मैचों में इसका बेहतर इस्तेमाल करेंगे। आखिर क्यों राजकोट टेस्ट ड्रॉ होने पर परेशान थे कोहली, क्लिक करके जानें पूरी बात

कोहली ने मैच के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा “बल्लेबाजी करते हुए मैने जिस बात पर गौर किया वह थी कि नॉन स्ट्राइक पर खड़े बल्लेबाज का विकेट के करीब होना जरूरी है। स्टंप्स के थोड़ा दूर होकर आपको गेंद सीधी ही नजर आएगी लेकिन असल में गेंद लाइन से बाहर जा रही होती है। इसलिए हमने इस पर बात की है और यह निर्णय लिया है कि नॉन स्ट्राइक पर खड़ा बल्लेबाज गेंद पर लगातार नजर रखेगा और साथी बल्लेबाज की मदद करेगा। टेस्ट के नजरिए से यह बहुत ही जरूरी बात है क्योंकि इस मैच की तरह आगे ऐसी किसी स्थिति में आप डीआरएस लेने से चूक सकते हैं। इन चीजों को डीआरएस से ठीक किया जा सकता है, आप वही कर सकते हो जो आपके बस में है और ऐसा तब होगा जब आप स्थिति से अच्छी तरह वाकिफ होंगे।” पूरे टेस्ट मैच में भारत का केवल एक ही रिव्यू सही रहा, जिसमें से कुक के लिए लिया गया रिव्यू सबसे बुरा था। ऐसी गेंद जो बल्ले से कोसों दूर हैं उस पर साहा ने डीआरएस मांगा और उससे भी गलत यह था कि कोहली ने उनका साथ दिया। भारत को अगर अगले मैचों में ऐसा कुछ नहीं करना है तो उन्हें डीआरएस के प्रति और जागरूक होना होगा और यह समझना होगा कि एक फैसला पूरे मैच को किस तरह प्रभावित करता है।