भारतीय क्रिकेट टीम ने मोटेरा स्टेडियम में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में 10 विकेट से शानदार जीत हासिल कर चार मैचों की सीरीज में 2-1 से बढ़त हासिल कर ली है। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेले गए इस मैच के दूसरे दिन इंग्लैंड को 81 रन पर ऑलआउट कर 49 रन के आसान से लक्ष्य को 7.4 ओवर में हासिल कर मैच जीता।

मैच के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने टीम के शानदार प्रदर्शन की तारीफ की लेकिन उन्होंने ये भी माना कि इस मैच में बल्लेबाजों का प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं था।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कोहली ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो, मुझे नहीं लगता कि बल्लेबाजी का क्वालिटी अच्छी थी। हम 100/3 के स्कोर पर थे और फिर 150 (145) पर ऑलआउट हो गए। केवल एक-दो गेंदे टर्न हो रही थी और पहली पारी में पिच बल्लेबाजी के लिए अच्छी थी। ये अजीब बात थी की 30 में से 21 विकेट सीधी गेंदो पर गिरे, टेस्ट क्रिकेट का मतलब अपने डिफेंस पर भरोसा करना होता है। खुद को सही तरह से लागू ना कर पाने की वजह से पारी जल्दी खत्म हुई।”

तीसरे टेस्ट में दोनों ही टीमों की ओर से स्पिन गेंदबाजों ने पेसर्स से बेहतर प्रदर्शन किया। टीम इंडिया की तेज गेंदबाजों जसप्रीत बुमराह और इशांत शर्मा को रविचंद्रन अश्विन और अक्षर पटेल के मुकाबले काफी कम ओवर मिले।

इस पर कोहली ने कहा, “बुमराह ने कहा कि मुझे खेलते हुए वर्कलोड मैनेज करने का मौका मिल रहा है। इशांत ने कहा मैं तो अपना 100वां टेस्ट खेल रहा हूं फिर भी मुझे गेंदबाजी करने का मौका नहीं मिल रहा है। मैंने ऐसा कभी नहीं देखा। एक बेहद अजीब मैच जो दो दिन में खत्म हो गया।”