भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के दौरान कमेंट्री कर चुके विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) का मानना है कि इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट में मिली हार भारत को अगले दो मुकाबलों में बेहतर करने के लिए प्रेरित करेगी।

कार्तिक ने द टेलेग्राफ के लिए लिखे कॉलम में कहा, “पिछली बार भारत 100 रन के अंदर ऑलआउट हुआ था तो उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेहतरीन तरीके से वापसी की थी। इस हिसाब से उनका थोड़ा इतिहास रहा है कि वो गिर कर वापसी करते हैं। लीड्स की हार उन्हें अगले दो टेस्ट में बेहतर करने के लिए प्रेरित करेगी।”

उन्होंने कहा, “इसमें कोई शक नहीं कि लीड्स का अनुभव अच्छा नहीं रहा है। लेकिन भारतीयों में काफी अनुभव और गुणवत्ता है जिससे वो वापसी कर सकते है।”

कार्तिक ने कहा, “जब भारत ने 2007 में इंग्लैंड में सीरीज जीती थी तो अनिल कुंबले हमारे एकमात्र बल्लेबाज थे जिन्होंने सीरीज में शतक लगाया था। लेकिन पांच अर्धशतक भी थे जिसमें महेंद्र सिंह धोनी और मेरे 90 रन थे।”

उन्होंने कहा, “विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे भारत के तीन सबसे ज्यादा अनुभवी बल्लेबाज हैं और पांच मैचों में इन्होंने सिर्फ एक बार अर्धशतक लगाया है। लेकिन द ओवल से अच्छे रन बनाने के लिए कोई ग्राउंड हो सकता है क्या?”