भारत के खिलाफ 5 टेस्ट मैचों की सीरीज (India vs England Test Series) में मेजबान इंग्लैंड 0-1 से पिछड़ चुकी है. दूसरी ओर अपने तेज गेंदबाजों की चोट और ऑलराउंडर बेन स्टोक्स के अनिश्चितकालीन ब्रेक से जूझना पड़ रहा है. क्रिकेट के जानकारों को ऐसे में इंग्लैंड की वापसी भले मुश्किल लग रही हो लेकिन उसके पूर्व कप्तान नासिर हुसैन (Nasser Hussain) ने कहा है कि अभी यह बिल्कुल मत सोचिए कि इंग्लैंड का खेल खत्म हो गया है. हुसैन को पूरा भरोसा है कि उनकी टीम इस सीरीज में जोरदार वापसी करने की क्षमता रखती है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इंग्लैंड के बल्लेबाजों को चाहिए कि बैटिंग का सारा दारोमदार सिर्फ कप्तान जो रूट (Joe Root) के कंधों पर ही नहीं होना चाहिए.

हुसैन ने लॉर्ड्स टेस्ट में इंग्लैंड की हार के बाद इंग्लिश मीडिया समूह डेली मेल से खास बातचीत की. इस दौरान उन्होंने इंग्लैंड की वापसी का पूरा भरोसा जताया. 53 वर्षीय नासिर हुसैन ने कहा, ‘मत भूलिए इंग्लैंड ने लॉर्ड्स में काफी अच्छी क्रिकेट भी खेली थी. जब सोमवार को रिषभ पंत (Rishabh Pant) बल्लेबाजी पर उतरे थे तब हम सभी मान रहे थे कि इंग्लैंड यहां 1-0 की बढ़त बना लेगा. भारत की बैटिंग में भी कमजोरियां हैं.’

इंग्लैंड के लिए 96 टेस्ट खेल चुके इस पूर्व कप्तान ने कहा, ‘लेकिन इंग्लैंड इसलिए नहीं जीत पाया क्योंकि उसका सिर्फ एक ही खिलाड़ी जो रूट रन बना रहे हैं. जब इंग्लैंड के कई गेंदबाजों को चोट से जूझना पड़ रहा है ऐसे में ओली रॉबिन्सन उसके लिए बेहतर खोच साबित हुए हैं. तो अभी ऐसा मत लिखिए कि इंग्लैंड का खेल खत्म हो गया. हां उन्हें यह जरूरत जरूर है कि टीम के दूसरे बल्लेबाज भी रन बनाएं.’

बता दें लॉर्ड्स टेस्ट में इंग्लैंड 5वें दिन जीत का दावेदार दिख रहा था. लेकिन जैसे ही जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) बल्लेबाजी के लिए क्रीज पर उतरे इंग्लैंड के गेंदबाजों ने उन्हें और मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) के खिलाफ शॉर्ट बॉल फेंकने की रणनीति अपना ली और अपने तमाम फील्डर्स को बाउंड्री लाइन के करीब भेज दिया.

इससे इन दोनों बल्लेबाजों को क्रीज पर सेट होने का समय मिल गया और दोनों ने 9वें विकेट के लिए 89 रन की अविजित पार्टनरशिप कर भारत के पक्ष में मैच का रुख कर दिया. बाद में इंग्लैंड को उसने सिर्फ 120 रन पर ऑलआउट कर यह मैच 151 रन के बड़े अंतर से अपने नाम कर लिया.