Breaking News

    ओवल टेस्ट: इशांत-बुमराह ने कराई टीम इंडिया की वापसी

    ओवल टेस्ट: इशांत-बुमराह ने कराई टीम इंडिया की वापसी

    भारत के लिए यह मुकाबला सिर्फ सम्मान का सवाल बचा है। सीरीज में इंग्लैंड के पास 3-1 की अजेय बढ़त है।

    Updated: September 7, 2018 11:41 PM IST | Edited By: CricketCountry Staff
    अनुभवी तेज गेंदबाज इशांत शर्मा और जसप्रीत बुमराह की आखिरी सत्र में घातक गेंदबाजी से भारत ने शानदार वापसी कर इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच का पहला दिन पूरी तरह से अपने नाम कर लिया।

    एक समय इंग्लैंड का कुल स्‍कोर एक विकेट पर 133 रन था। लेकिन पहले दिन का खेल समाप्त होने तक इंग्‍लैंड ने 198 रन पर सात विकेट गवां दिए थे। पहले दो सत्र में विकेट से महरूम रहे इशांत ने 28 रन देकर तीन और बुमराह ने 41 रन देकर दो विकेट लिए।

    स्पिनर रविंद्र जडेजा ने भी 57 रन खर्च कर दो विकेट हासिल किए। पेसर मोहम्मद शमी ने भी अच्छी गेंदबाजी की लेकिन उन्हें विकेट नहीं मिला।

    कुक ने खेली धीमी पारी

    अपना आखिरी टेस्ट मैच खेल रहे एलिस्‍टर कुक की धीमी लेकिन ठोस पारी और दूसरे छोर से मोइन अली के पिच पर टिके रहने के दृढ़ इरादों के कारण भारत पहले दो सत्र में केवल एक विकेट हासिल कर पाया लेकिन टी के बाद एकदम से कहानी बदल गई।

    कुक ने बेहद धीमी बल्लेबाजी की लेकिन वह पिछली 9 पारियों के बाद पहली बार अर्धशतक जमाने में सफल रहे। उन्होंने 190 गेंदें खेलकर 71 रन बनाए। उन्‍होंने सलामी जोड़ीदार कीटन जेनिंग्स (23) के साथ पहले विकेट के लिए 60 और मोइन अली (50) के साथ तीसरे विकेट के लिए 73 रन की उपयोगी साझेदारियां की।

    तीसरा सेशन भारत के नाम रहा

    तीसरा सत्र पूरी तरह से भारत के नाम रहा जिसमें मेहमान टीम ने छह विकेट हासिल किए। बुमराह ने कुक और कप्तान जो रूट (शून्य) को चार गेंद के अंदर पवेलियन भेजकर भारत को वापसी दिलाई।

    कुक के लिए उनकी मूव करती गेंद बल्ले को चूमकर विकेट पर लगी जबकि बुमराह की इनस्विंगर रूट के समझ से परे थी। वह उनके पैड पर टकराई और जोरदार अपील पर अंपायर की उंगली उठ गई।

    भारत ने मोइन और कुक के खिलाफ अपने दोनों रिव्यू गंवा दिए थे लेकिन रूट ने डीआरएस का सहारा लिया। उन्हें हालांकि इसका फायदा नहीं मिला और इंग्लैंड के कप्तान को बिना खाता खोले पवेलियन लौटना पड़ा।

    इशांत ने अगले ओवर में जॉनी बेयरस्‍टो को भी खाता नहीं खोलने दिया। उनकी ऑफ स्टंप से जाती गेंद को बेयरस्‍टो ने लाइन में आए बिना खेलने की कोशिश की और विकेटकीपर ऋषभ पंत को आसान कैच थमाया। बेयरस्‍टो पिछली चार पारियों में तीसरी बार खाता नहीं खोल पाए और इंग्लैंड का स्कोर एक विकेट पर 133 रन से चार विकेट 134 रन हो गया।

    बेन स्टोक्स (11) भी ज्यादा देर तक मोइन का साथ नहीं दे पाए। जडेजा की सीधी लेकिन अपेक्षाकृत तेज गेंद विकेट के ठीक सामने उनके पैड पर टकराई और अंपायर को फैसला देने में किसी तरह की परेशानी नहीं हुई।

    मोइन की 170 गेंद की धैर्यपूर्ण पारी का अंत आखिर में इशांत ने किया। इस अनुभवी गेंदबाज ने उन्हें स्ट्रोक खेलने के लिए मजबूर किया और गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर पंत के दस्तानों में समा गयी। इशांत ने इसी ओवर में नये बल्लेबाज सैम कुर्रन (शून्य) को भी पवेलियन की राह दिखा दी जिन्होंने पिछले मैच में अपनी दो साहसिक पारियों से पासा पलट दिया था।

    इशांत के अगले ओवर में जोस बटलर भी पवेलियन लौट सकते थे। कैच की उनकी अपील पर अंपायर की उंगली भी उठ गई थी लेकिन रीप्ले से पता चला कि गेंद बल्ले से नहीं लगी थी।

    भारत ने 87 ओवर बाद नई गेंद ली, लेकिन इससे असर नहीं पड़ा। स्टंप के समय बटलर 11 और आदिल राशिद चार रन पर खेल रहे थे।

    केएल राहुल ने सीरीज में 12 वां कैच लपका

    इससे पहले रूट के लगातार पांचवें मैच में टास जीतने के बाद अपना आखिरी टेस्ट मैच खेल रहे कुक जब बल्लेबाजी के लिए मैदान पर उतरे तो भारतीय टीम ने उन्हें ' गार्ड ऑफ ऑनर' पेश किया।

    जडेजा ने जेनिंग्स को केएल राहुल के हाथों कैच कराकर टीम को पहली सफलता दिलाई। राहुल का सीरीज में यह 12वां कैच था। शमी को शुरू में मूवमेंट नहीं मिला लेकिन दूसरे स्पैल में उन्होंने काफी प्रभावशाली गेंदबाजी की तथा कुक और मोईन को परेशान किया। भाग्य हालांकि उनके साथ नहीं था और अच्छे प्रयास के बावजूद उन्हें सफलता नहीं मिली।

    इंग्लैंड ने पिछले मैच में जीत दर्ज करने वाली अपनी टीम में कोई बदलाव नहीं किया जबकि भारत ने चोटिल रविचंद्रन अश्विन की जगह जडेजा और हार्दिक पांड्या के स्थान पर हनुमा विहारी को प्‍लेइंग इलेवन में जगह दी।
    Advertisement