India vs England, LIVE Cricket Score, 5th Test at The Oval, Day 3

ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा की अर्धशतकीय पारी से भारत वापसी करने में सफल रहा लेकिन एलिस्‍टर कुक की अपनी आखिरी पारी में दिखाई गई दृढ़ता से इंग्लैंड ने 5वें और अंतिम टेस्ट मैच के तीसरे दिन अपना पलड़ा भारी रखा।

मेजबान टीम ने तीसरे दिन का खेल खत्‍म होने तक दो विकेट पर 114 रन बनाए। पहली पारी में 332 रन बनाने वाले इंग्लैंड की कुल बढ़त अब 154 रन हो गई है। भारत ने जडेजा (नाबाद 86) और अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे हनुमा विहारी (56) के अर्धशतकों की मदद से अपनी पहली पारी में 292 रन बनाए थे।

अपना अंतिम टेस्‍ट खेल रहे कुक क्रीज पर डटे हुए हैं

अपना अंतिम टेस्ट मैच खेल रहे एलिस्‍टर कुक 46 रन बनाकर क्रीज पर डटे हुए हैं। उनके साथ दूसरे छोर पर कप्तान जो रूट 29 रन पर नाबाद हैं। दोनों ने अब तक तीसरे विकेट के लिए 52 रन जोड़े हैं। भारत की तरफ से मोहम्मद शमी और जडेजा ने एक-एक विकेट लिया।

कुक और जेनिंग्‍स ने सधी शुरुआत की

एलिस्‍टर कुक और युवा कीटोन जेनिंग्स (10) ने सधी शुरुआत की और चाय के विश्राम से पहले के 9 ओवर में इंग्लैंड को कोई झटका नहीं लगने दिया। शमी ने हालांकि तीसरे सत्र के चौथे ओवर में ही जेनिंग्स का ऑफ स्टंप हिला दिया जिसे इंग्लैंड के बल्लेबाज ने खुला छोड़ दिया था।

कोहली की डीआरएस को लेकर फैसले लेने में फिर से उजागर हुई नाकामी

भारतीय कप्तान विराट कोहली का डीआरएस को लेकर फैसले लेने में नाकामी फिर से उजागर हो गई। टीम ने 12वें ओवर तक अपने दोनों रिव्यू गंवा दिए थे। इनमें पहला जेनिंग्स और दूसरा कुक के खिलाफ था।

केएल राहुल ने मोईन अली को दिया जीवनदान

पहली पारी में अनुशासित बल्लेबाजी करने वाले मोईन अली (20) को सीरीज के सबसे सफल क्षेत्ररक्षक केएल राहुल ने जीवनदान दिया। यह अलग बात है कि मोईन इसका खास फायदा नहीं उठा पाए। इसके बाद वह अपने खाते में केवल छह रन ही जोड़ सके और जडेजा की गेंद उनके बल्ले को चूमकर विकेटों में समा गई। जडेजा ने इससे ठीक पहले अंपायर से आग्रह करके गेंद बदलवाई थी।

कुक की आखिरी पारी में दृढ़ता और आत्मविश्वास दिखा। कुछ अवसरों पर जरूर गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर हवा में उछली लेकिन वह फील्‍डरों की पहुंच से दूर रह गई। एक अवसर पर रूट के बल्ले से लगकर भी गेंद हवा में लहराई लेकिन उनके कुछ शॉट दर्शनीय थे।

जडेजा का अर्धशतक रहा आकर्षण का केंद्र

इससे पहले भारतीय पारी का आकर्षण रविंद्र जडेजा का नाबाद अर्धशतक रहा। उन्होंने सतर्कता और आक्रामकता की अच्छी मिसाल पेश की तथा 156 गेंदों का सामना करके 11 चौके और एक छक्का लगाया। जडेजा ने हनुमा विहारी के साथ सातवें विकेट के लिए 77 रन जोड़कर भारत को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

विहारी के आउट होने के बाद जडेजा ने आक्रामक रवैया अपनाया लेकिन इस बीच पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ चतुराई भरी बल्लेबाजी भी की तथा अधिकतर समय स्ट्राइक अपने पास रखी। विहारी ने 124 गेंदों का सामना करके सात चौके और एक छक्का लगाया। इंग्लैंड की तरफ से जेम्स एंडरसन, बेन स्टोक्स और मोईन अली ने दो-दो जबकि स्टुअर्ट ब्रॉड, सैम कर्रन और आदिल राशिद को एक-एक विकेट मिला।

भारत ने 6 विकेट पर 174 रन से आगे खेलना शुरू किया

भारत ने सुबह छह विकेट पर 174 रन से आगे खेलना शुरू किया। हनुमा विहारी और रविंद्र जडेजा ने सतर्क बल्लेबाजी करके भारत को छह विकेट पर 160 रन की बेहद खराब स्थिति से बाहर निकाला।

एंडरसन और ब्रॉड का पहला स्पेल काफी चुनौतीपूर्ण था लेकिन दोनों बल्लेबाजों ने धैर्य से काम लिया। भारत ने पहले घंटे में 33 रन बनाये। इंग्लैंड ने 71वें ओवर में जडेजा के खिलाफ विकेट के पीछे कैच के लिए डीआरएस का सहारा लिया लेकिन उसका यह प्रयास नाकाम रहा।

हनुमा ने चयन को सही साबित किया

हनुमा विहारी ने 104 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा करके अपने चयन को सही साबित किया। जब लग रहा था कि भारत लंच तक बिना किसी नुकसान के पहुंच जाएगा तभी मोईन ने विहारी को पवेलियन की राह दिखा दी।

बल्लेबाज ने विकेट के पीछे कैच के लिए रिव्यू लिया लेकिन डीआरएस से भी स्पष्ट नहीं हो पा रहा था कि गेंद ने बल्ले का स्पर्श किया था या नहीं क्योंकि उसी समय बल्ला पैड से भी लगा था। तीसरे अंपायर ने हालांकि मैदानी अंपायर के फैसले को सही माना और विहारी को पवेलियन लौटना पड़ा।

इशांत शर्मा (04) ने कुछ समय तक जडेजा का साथ दिया लेकिन शमी (एक) को राशिद ने अपनी गुगली के सहारे जल्द ही पवेलियन भेज दिया। जसप्रीत बुमराह भले ही खाता खोले बिना रन आउट होकर पवेलियन लौटे लेकिन उन्होंने 14 गेंदें खेली और जडेजा इस बीच 32 महत्वपूर्ण रन जुटाने में सफल रहे।