India vs England: Need to pay attention to the broad picture of ECB’s rotation policy, says James Anderson
जेम्स एंडरसन (ECB)

सीनियर जेम्स एंडरसन ने इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड  की रोटेशन पॉलिसी का समर्थन किया है। एंडरसन ने इस नीति की आलोचना कर रहे लोगों से बड़ी तस्वीर पर ध्यान देने की बात कही।

ईसीबी ने रोटेशन पॉलिसी के चलते जॉनी बेयरस्टॉ और मार्क वुड को भारत के खिलाफ पहले दो टेस्ट मैचों से बाहर रखा और अब आखिरी दो टेस्ट मैचों के लिए उनकी वापसी हुई है। विकेटकीपर बल्लेबाज जॉस बटलर पहले टेस्ट मैच के बाद जबकि ऑलराउंडर मोईन अली दूसरे मैच के बाद स्वदेश लौट गए।

एंडरसन ने ‘गॉर्डियन’ समाचार पत्र से कहा, ‘‘आपको बड़ी तस्वीर पर गौर करना चाहिए। इसके पीछे विचार ये था कि अगर मैं उस टेस्ट (दूसरे मैच) में नहीं खेल पाया तो इससे मुझे गुलाबी गेंद से होने वाले टेस्ट के लिए अधिक फिट होकर मैदान पर उतरने का मौका मिलेगा।’’

केविन पीटरसन,माइकल वॉन के अलावा कई पूर्व खिलाड़ियों ने ईसीबी की नीति की आलोचना की और कहा कि उसे भारत के खिलाफ इस बड़ी सीरीज में अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी उतारने चाहिए।

युजवेंद्र चहल ने टीम इंडिया में चयन की बात कही तो लगा कि वो मजाक कर रहे हैं: राहुल तेवतिया

एंडरसन, खुद सीरीज के पहले मैच में हिस्सा लेने के बाद दूसरे टेस्ट के लिए बाहर बैठे थे। उनके मुताबिक खिलाड़ियों के लिए आराम जरूरी है चूंकि इसे आगे के मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलती है।

एंडरसन ने कहा, ‘‘ये केवल मेरे लिए नहीं, सभी गेंदबाजों के लिए समान है। हमें इस साल 17 टेस्ट मैच खेलने हैं और इनके लिए अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को फिट और तरोताजा रखने का सर्वश्रेष्ठ तरीका यही है कि उन्हें बीच बीच में थोड़ा आराम दिया जाए।’’

तीसरे टेस्ट मैच में हिस्सा लेने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘मैं अच्छा और तरोताजा महसूस कर रहा हूं और मौका मिलने पर फिर से खेलने के लिए तैयार हूं। ये एक हद तक निराश करने वाला है लेकिन हमें जितनी अधिक क्रिकेट खेलनी है उसे ध्यान में रखते हुए मैं बड़ी तस्वीर पर गौर कर सकता हूं।’’