india vs england now it has become okay to talk on depression says james anderson
जेम्स एंडरसन @ICCTwitter

हाल के कुछ समय में खिलाड़ी अपनी मानसिक सेहत पर खुल कर बात कर रहे हैं और अगर वे इस डिप्रेशन से उबरने के लिए आराम लेना चाहते हैं तो वे ऐसा कर रहे हैं. इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन (James Anderson) इसे खेलों में सकारात्मक बदलाव मानते हैं. इस तेज गेंदबाज ने कहा कि खेलों में सफल होने के लिए खिलाड़ियों को अलग-अलग तरह के दबाव से गुजरना पड़ता है. अब मानसिक पहलुओं पर बात करना आसान है और इसमें कोई दिक्कत भी नहीं है.

हाल ही में टेनिस स्टार नाओमी ओसाका (Naomi Osaka) ने यह किया था, जब वह फ्रेंच ओपन और विंबलडन से हट गई थीं. इसके बाद अमेरिकी जिम्नास्ट सिमोन बाइल्स (Simone Biles) और इंग्लिश ऑलराउंडर बेन स्टोक्स (Ben Stokes) इसका ताजा उदाहरण हैं. बाइल्स ने हाल ही में टोक्यो में जारी ओलंपिक खेलों की 6 प्रतियोगिताओं में से 5 से खुद को अलग कर लिया. इसी तरह बेन स्टोक्स ने भी क्रिकेट से अनिश्चितकाल के लिए ब्रेक लिया है.

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल (Glenn Maxwell) ने भी मानसिक सेहत के चलते क्रिकेट से कुछ समय के लिए ब्रेक लिया था. बाद में वह स्वस्थ महसूस करने के बाद खेल में वापस लौट आए.

39 वर्षीय एंडरसन (James Anderson) ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘मुझे लगता है कि इसका लोगों पर बिलकुल अलग तरह का प्रभाव पड़ता है. अपने खेल में सफल होने के कारण आपको अलग तरह के दबाव का सामना करना पड़ता है.’

उन्होंने कहा, ‘बेन स्टोक्स के नजरिए से निश्चित तौर पर पिछले कुछ वर्षों में उसने काफी चीजों का सामना किया है, वह काफी अधिक क्रिकेट खेले हैं.’ वर्ष 2003 में टेस्ट पदार्पण करने वाले एंडरसन ने याद किया कि जब उन्होंने करियर शुरू किया तो अगर कोई मानसिक अवसाद के बारे में बात करता था तो इसे कमजोरी का संकेत माना जाता था..

उन्होंने कहा, ‘निश्चित तौर पर जब मैंने शुरुआत की तो इस बारे में बात करने को कमजोरी की तरह देखा जा सकता था विशेषकर पुरुष खिलाड़ी के नजरिए से.’ इंग्लैंड के लिए 162 टेस्ट में 617 विकेट चटकाने वाले एंडरसन ने कहा ने कहा वह भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज में गेंदबाजी आक्रमण की शुरुआत करेंगे. उन्होंने साथ ही उम्मीद जताई कि स्टोक्स मजबूत वापसी करेंगे.

एंडरसन ने कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि बेन मजबूत वापसी करेंगे क्योंकि वह बेहद प्रतिभाशाली हैं और दुनिया उन्हें देखना चाहती है.’ भारत और इंग्लैंड के बीच पहला टेस्ट चार अगस्त से खेला जाएगा.