टीम इंडिया के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत (Rishabh Pant) ने इंग्लैंड के खिलाफ (India vs England) चौथे और अंतिम टेस्ट में बेहतरीन शतक ठोककर एक बार फिर टीम इंडिया को ड्राइविंग सीट पर ला दिया है. पंत के टेस्ट करियर का यह कुल तीसरा और भारत में पहला शतक है. पंत ने अपना यह शतक दो साल बाद बनाया है. इससे पहले उन्होंने जनवरी 2019 को सिडनी टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक ठोका था. पंत (101) ने 118 बॉल की अपनी पारी में 13 चौके और 2 छक्कों की मदद से यह शतकीय पारी पूरी की.

अहमदाबाद में खेले जा रहे इस टेस्ट मैच के दूसरे दिन इंग्लैंड ने शानदार बॉलिंग कर आज टीम इंडिया को दबाव में ला दिया था. भारत ने आज 146 रन तक पहुंचते-पहुंचे अपने 5 विकेट गंवा दिए थे. टीम दबाव में थी और यहां से पंत ने एक बार फिर टीम को बखूबी संभाला और शतक जड़कर टीम इंडिया को एक बार फिर मैच में ड्राइविंग सीट पर लेकर आ गए. पंत ने युवा वॉशिंग्टन सुंदर के साथ मिलकर पहले भारत को इग्लैंड के पहली पारी के स्कोर के पार पहुंचाया और फिर अपने गियर बदलते हुए अपना यह शतक पूरा कर लिया. इंग्लैंड के खिलाफ यह इस विकेटकीपर बल्लेबाज का दूसरा टेस्ट शतक है.

https://twitter.com/BCCI/status/1367789933969084422?s=20

इस सीजन पंत ऑस्ट्रेलिया दौरे से ही शानदार फॉर्म में हैं. इससे पहले वह ऑस्ट्रेलिया में सिडनी टेस्ट और चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ ही नर्वस 90 का शिकार हो चुके थे. सिडनी में पंत में अपने शतक से मात्र 3 रन और चेन्नई में वह 9 रन से चूक गए थे. लेकिन इस उन्होंने ऐसी कोई गलती नहीं की और अपनी पारी को शानदार ढंग से आगे बढ़ाया.

जब एक बार भारत ने इंग्लैंड के पहली पारी के स्कोर की बराबरी कर ली तो फिर पंत ने यह जान लिया कि भारत अब बैकफुट पर नहीं है. इसके बाद उन्होंने तेजी से रन बनाने का सिलसिला शुरू किया. इस बीच भारत की पारी के 80 ओवर पूरे होते ही इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने नया गेंद ले लिया.

लेकिन पंत के सामने उनका यह फैसला उल्टा पड़ा और पंत ने तेज तर्रार रनों की अपनी रफ्तार और बढ़ा दी. नई गेंद से अभी चौथा ही ओवर फेंका जा रहा था कि इस बल्लेबाज ने जो रूट की गेंद पर छक्का जड़कर अपना शतक पूरा किया. हालांकि इस शतक को वह बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाए और 101 रन बनाकर जेम्स एंडरसन का तीसरा शिकार बने.