केदार जाधव  © IANS
केदार जाधव © IANS

पुणे। इंग्लैंड के खिलाफ हाल में संपन्न एकदिवसीय श्रृंखला में मैन ऑफ द सीरीज रहे केदार जाधव ने कहा है कि इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला उनके करियर का टर्निंग प्वाइंट रही। जाधव ने संवाददाताओं से कहा, “इंग्लैंड के खिलाफ पुणे में शतक जड़ने के बाद मैंने सोचा कि अगर मैं यही प्रदर्शन जारी रखता हूं तो मैन ऑफ द सीरीज पुरस्कार मिलने की संभावना है।” पहले वनडे में 76 गेंद में 120 रन बनाकर भारत की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले जाधव ने कहा, “मुझे लगता है कि इंग्लैंड के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला मेरे करियर का टर्निंग प्वाइंट रही।” जाधव ने कहा कि उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ श्रृंखला में अपने प्रदर्शन से आत्मविश्वास मिला।

उन्होंने कहा, “हालांकि मैंने बड़ी पारियां नहीं खेलीं लेकिन मैंने जो भी रन बनाए उसने मुझे काफी आत्मविश्वास दिया। इस श्रृंखला(इंग्लैंड के खिलाफ) से पहले मुझे पूरा विश्वास था कि मैं अच्छा प्रदर्शन करूंगा और मुझे लगता है कि किसी भी खिलाड़ी के लिए यह अहसास सबसे महत्वपूर्ण है।” करियर में देर से भारत की ओर से खेलने का मौका मिलने के बारे में पूछने पर जाधव ने कहा, “मुझे देरी से मौका मिला क्योंकि मैं पर्याप्त रूप से परिपक्व नहीं था, मेरे खेल में कमियां थीं। जैसे ही मैं संपूर्ण खिलाड़ी बना तो मुझे मौका मिल गया और मुझे खुशी है कि मैं इसका फायदा उठा पाया।” [मैच रिपोर्ट: इंग्लैंड ने कानपुर टी20I में भारत को 7 विकेट से हराया, सीरीज में ली 1-0 की बढ़त]

कप्तान विराट कोहली के उन पर विश्वास के बारे में पूछने पर जाधव ने कहा, “उसने हमेशा मुझे मेरा स्वाभाविक खेल खेलने के लिए प्रेरित किया। सिर्फ उसे मैच के लिए तैयारी करते हुए और खेलते हुए देखकर ही काफी प्रेरणा मिलती है।” जाधव ने दबाव में महेंद्र सिंह धोनी के धैर्य की भी तारीफ की और कहा कि इस पूर्व कप्तान की मौजूदगी में उनके परिपक्वता के स्तर में इजाफा हुआ। उन्होंने कहा, “वह दबाव से निपटता है, चुनौती का सामना करता है और बहुत ही धैर्यपूर्ण तरीके से स्थिति से निपटता है।” जाधव ने कहा कि कोहली और धोनी की नेतृत्व करने की शैली अलग है लेकिन इसके बाद दोनों में अधिक अंतर नहीं है और दोनों विश्व स्तरीय कप्तान हैं। यह पूछने पर कि क्या इंग्लैंड के खिलाफ प्रदर्शन से टीम में उनकी जगह पक्की होगी, जाधव ने कहा कि वह वर्तमान में जीते हैं और अतीत की विफलता या सफलता को लेकर चिंतित नहीं होते।